ताज़ा खबर
 

जम्मू, सांबा ने दी शहीदों को अश्रुपूर्ण विदाई, सीएम महबूबा मुफ्ती ने भी दी श्रद्धांजलि

10 डोगरा के सूबेदार करनैल सिंह और हवलदार रवि पॉल के पार्थिव शरीर का जम्मू जिले के शिबू चक और सांबा जिले के रामगढ़ गांव में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Author जम्मू | September 20, 2016 5:23 AM
जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के नेतृत्व में सेना और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने उड़ी में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

जम्मू कश्मीर के उड़ी में आतंकवादियों के हमले में शहीद हुए दो बहादुर जवानों को जम्मू और सांबा जिले के लोगों ने अश्रुपूर्ण अंतिम विदाई दी। 10 डोगरा के सूबेदार करनैल सिंह और हवलदार रवि पॉल के पार्थिव शरीर का जम्मू जिले के शिबू चक और सांबा जिले के रामगढ़ गांव में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। विमान से दोनों सैनिकों के पार्थिव शरीर आने के बाद ग्रामीणों के बीच मातम पसर गया। वायु सेना के विशेष हेलिकॉप्टर से उनका शव लाया गया। जम्मू कश्मीर के विधानसभा अध्यक्ष कवींद्र गुप्ता व मंत्रियों – बाली भगत, जुल्फिकार अली, चंद्र प्रकाश गंगा, सांसद जुगल किशोर और विधायकों सत शर्मा व राजेश गुप्ता ने पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किए।

इससे पहले, जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के नेतृत्व में सेना और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने उड़ी में सेना के आधार शिविर पर आतंकवादी हमले में शहीद हुए 17 सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। सेना के एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बदामीबाग में यहां चिनार कोर के मुख्यालय में आयोजित एक सादे समारोह में शहीद सैनिकों के पार्थिव शरीर पर पुष्पगुच्छ रखे। उन्होंने बताया कि चिनार कोर के जनरल कमांडिंग अफसर लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ और पुलिस के महानिदेशक के राजेंद्र कुमार सहित अन्य वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारियों ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की। अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री घायल सैनिकों को देखने सेना के 92 बेस अस्पताल गई। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर के निर्देश पर सेना ने शहीद हुए सभी सैनिकों को सीधे उनके संबंधित गृहनगर तक पहुंचाने के लिए परिवहन के इंतजाम किए हैं। उधर, महाराष्ट्र के चार गांवों में सोमवार को बड़ी संख्या में लोग उन चार जवानों के परिवारों के साथ शोक की इस घड़ी में संवेदना जताने पहुंचे जो उड़ी आतंकी हमले में शहीद हो गए थे। उड़ी आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों में से चार महाराष्ट्र के थे। इनमें नाशिक जिले के संदीप सोमनाथ टोक (24), सतारा के चंद्रकांत शंकर गालांडे, यवतमाल से विकास जनार्दन कुलमेठे (27) और अमरावती से विकास जनराव उइके (26) शामिल थे।

गालांडे की शहादत की खबर मिलते ही सतारा के मान तहसील के जाशी गांव में उनके घर ग्रामीणों का तांता लगने लगा। उनके दो भाई भी सशस्त्र बलों में हैं। गालांडे की पत्नी और दो बच्चे गांव में ही रहते हैं। ग्रामीण उनके पार्थिव शरीर के आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। नाशिक जिले के खंडागली गांव में संदीप के घर भी ग्रामीण पार्थिव शरीर के आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। सोमनाथ अविवाहित थे और उनके परिवार में उनके माता…पिता, बड़े भाई योगेश और दो बहनें हैं। यवतमाल जिले के वाणी तहसील में शहीद विकास पुराद नेराद में लोग शोकग्रस्त हैं। विकास का पार्थिव शरीर नागपुर लाया जा रहा है। इस बीच विकास जनराव उइके का पार्थिव शरीर अमरावती जिले में उनके पैतृक स्थान नंदगांव खंडेश्वर लाया जा रहा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App