ताज़ा खबर
 

वीरता पुरस्कार के लिए शहीद गुरनाम के नाम की सिफारिश करेगा बीएसएफ

21 अक्टूबर को सीमापार से हुई गोलीबारी में घायल हुए 26 वर्षीय गुरनाम का जम्मू के सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में 22 अक्टूबर की देर रात निधन हो गया।

Author जम्मू | October 23, 2016 8:02 PM
सीमा पार पाकिस्तान कि ओर से की गई फायरिंग में मारे गए शहीद गुरनाम सिंह को पुष्प गुच्छ अर्पित करते बीएसएफ की पश्चिमी कमांड के अतिरिक्त महनिदेशक अरुण कुमार। (PTI Photo/23 Oct, 2016)

सर्वोच्च वीरता पुरस्कार के लिए बीएसएफ अपने एक शहीद जवान गुरनाम सिंह के नाम की सिफारिश करेगा। सिंह ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा से घुसपैठ की बड़ी कोशिश को नाकाम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। शुक्रवार (21 अक्टूबर) को सीमापार से हुई गोलीबारी में घायल हुए 26 वर्षीय गुरनाम का जम्मू के सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में इलाज चल रहा था लेकिन शनिवार (22 अक्टूबर) देर रात उनका निधन हो गया। बीएसएफ की पश्चिमी कमांड के अतिरिक्त महनिदेशक अरुण कुमार से जब पूछा गया कि सर्वोच्च वीरता पुरस्कार के लिए क्या गुरनाम का नाम भेजा जाएगा, तो उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर उनके नाम की सिफारिश की जाएगी। अशोक चक्र शांतिकाल का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार है।

कुमार ने शहीद को पुष्प गुच्छ अर्पित करते हुए कहा, ‘भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम करने में गुरनाम ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अगले दिन उन्हें निशाना बनाया गया। उनके द्वारा किए गए बलिदान पर ना केवल बीएसएफ बल्कि पूरे राष्ट्र को गर्व है।’ जम्मू स्थित बीएसएफ के सीमावर्ती मुख्यालयों में रविवार को बीएसएफ ने सिंह को भावभीनी अंतिम विदाई दी। इसमें बीएसएफ के कई वरिष्ठ अधिकारियों समेत स्थानीय पुलिस बल मौजूद था। भाजपा के वरिष्ठ नेता भी यहां मौजूद थे। शहीद जवान की अंत्येष्टि सोमवार (24 अक्टूबर) को उनके परिवार की इच्छानुसार की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App