ताज़ा खबर
 

श्रीनगर उपचुनाव के बाद चुनाव आयोग ने अनंतनाग लोकसभा उपचुनाव टाला

चुनाव आयोग ने सोमवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में अनंतनाग लोकसभा उपचुनाव 25 मई तक टाल दिया। यह चुनाव 12 अप्रैल को होना था।

Author नई दिल्ली/श्रीनगर | April 11, 2017 2:03 AM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

चुनाव आयोग ने सोमवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में अनंतनाग लोकसभा उपचुनाव 25 मई तक टाल दिया। यह चुनाव 12 अप्रैल को होना था। श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव के दौरान रविवार को कई इलाकों में व्यापक हिंसा और बेहद कम मतदान होने के बाद सत्तारूढ़ पीडीपी ने अनंतनाग उपचुनाव टालने की अपील की थी, जबकि विपक्षी कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस ने 12 अप्रैल को तय समय पर चुनाव कराने की मांग की थी। अधिकारियों ने बताया कि अनंतनाग उपचुनाव आयोजित बाकी पेज 8 पर कराने के लिए राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में अलग-अलग दलों ने अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि बैठक में श्रीनगर लोकसभा उपचुनाव के दौरान रविवार को जिन इलाकों में व्यापक हिंसा हुई वहां फिर से उपचुनाव कराने पर भी चर्चा हुई।

बैठक में पीडीपी, भाजपा, कांग्रेस, नेशनल कांफ्रेंस, राज्य के अन्य दलों के प्रतिनिधियों और निर्दलीय उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया। अधिकारियों ने बताया, ‘नेकां के अकबर लोन, कांग्रेस के प्रतिनिधि उस्मान माजिद और जी एन मोंगा ने 12 अप्रैल को तय समय पर अनंतनाग सीट पर उपचुनाव कराने की मांग की जबकि नेकां के महासचिव अली मोहम्मद सागर ने सीईओ से कहा कि किसी भी निर्णय पर पहुंचने से पहले सभी परिस्थितियों को ध्यान में रखें।’इससे पहले सोमवार को दिन में अनंतनाग से पीडीपी के उम्मीदवार तसद्दुकमुफ्ती ने चुनाव आयोग से अनंतनाग लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव की तारीख टालने की अपील की। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के छोटे भाई तसद्दुक ने मुख्यमंत्री के घर के परिसर में संवाददाताओं से कहा, ‘मैं चुनाव आयोग से स्थिति सुधरने तक चुनाव टालने की अपील करता हूं। यह मेरा अनुरोध है।’  45 साल के पीडीपी नेता ने विपक्षी नेशनल कांफ्रेंस के उन आरोपों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि राज्य सरकार चुनाव के लिए सुरक्षित माहौल की व्यवस्था करने में नाकाम रही है। उन्होंने कहा कि वे श्रीनगर लोकसभा क्षेत्र में उपचुनाव के दौरान हुई हिंसा से दुखी हैं।

अनंतनाग उपचुनाव स्थगित करने की तसद्दुक मुफ्ती की मांग पर नेशनल कांफ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि यह उनकी बहन के नेतृत्व वाली सरकार पर आक्षेप है। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा, ‘तसद्दुक का बयान उनकी बहन महबूबा मुफ्ती की सरकार और उसकी विफलता पर आक्षेप है। भाजपा इसे कैसे नहीं देख पा रही है।’उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘चुनाव आयोग को अनंतनाग चुनाव स्थगित करने या उसे रद्द करने का अधिकार है लेकिन अगर ऐसा होता है तो महबूबा मुफ्ती को अवश्य इस्तीफा देना चाहिए और राज्यपाल को कार्यभार संभाल लेना चाहिए।’  इस बीच उत्पातियों ने मतदान केंद्र बनाए गए दो सरकारी स्कूलों को रविवार रात को आग के हवाले कर दिया। अनंतनाग उपचुनाव के लिए इन मतदान केंद्रों का इस्तेमाल होना था। कश्मीर में रविवार को मतदान के बाद हिंसा की यह ताजा घटना हुई है। वहीं राज्य के बडगाम व गंदरबल जिलों में सोमवार को निषेधाज्ञा लगा दी गई।  श्रीनगर शहर में रविवार को हुई हिंसा की घटना के बाद रविवार को भारी तादाद में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया। दक्षिणी कश्मीर के शोपियां और पुलवामा जिलों में असामाजिक तत्वों ने दो सरकारी विद्यालयों में आग लगा दी।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि रविवार रात शोपियां जिले के पद्दारपुरा इलाके में असामाजिक तत्वों ने एक सरकारी विद्यालय के भवन में आग लगा दी। उन्होंने बताया कि इस स्कूल भवन को चुनावी केंद्र बनाया गया था। आग पर काबू पा लिया गया है लेकिन इससे भवन को आंशिक नुकसान हुआ है।अधिकारी ने बताया कि शरारती तत्वों ने पुलवामा जिले के अरिहल इलाके की एक अन्य स्कूली इमारत में आग लगा दी। पुलिस बलों ने स्थानीय लोगों की मदद से आग बुझाई। वहीं मध्य कश्मीर के दो जिलों बडगाम और गंदरबल में सोमवार को निषेधाज्ञा लगा दी गई। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए बडगाम और गंदरबल जिले में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत चार या इससे ज्यादा लोगों के एक स्थान पर एकत्र होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।  उन्होंने कहा कि हालांकि ग्रीष्मकालीन राजधानी में कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है लेकिन किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए पूरे शहर के संवेदनशील स्थानों पर काफी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। उस अधिकारी ने बताया कि अलगाववादियों द्वारा बुलाए गए हड़ताल की वजह से पूरे घाटी में सामान्य जनजीवन काफी प्रभावित रहा। दुकानें, पेट्रोल पंप और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे जबकि बैंकों और सरकारी दफ्तरों में उपस्थिति काफी कम रही। इंटरनेट सेवा दूसरे दिन भी निलंबित रही। सार्वजनिक वाहन सड़कों पर नजर नहीं आए जबकि निजी वाहनों की आवाजाही भी काफी कम रही। कश्मीर विश्वविद्यालय और इस्लामिक विज्ञान व प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में सोमवार को होने वाले परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया।

 

चुनाव आयोग ने सोमवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में अनंतनाग लोकसभा उपचुनाव 25 मई तक टाल दिया। यह चुनाव 12 अप्रैल को होना था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App