ताज़ा खबर
 

कश्‍मीर: नजर उतारने के नाम पर नाबालिग लड़कों से कुकर्म कर रहा था मौलवी, केस दर्ज

आरोपी मौलवी शेख के भाई ने कहा कि मेरा भाई बहुत ही धार्मिक व्यक्ति है और उसे फंसाया जा रहा है।
Author कश्मीर | September 24, 2017 12:11 pm
महिला बीजेपी नेता के खिलाफ पोस्ट किया अश्लील कार्टून, VCK नेता गिरफ्तार (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

देश में केवल महिलाएं ही शारीरिक उत्पीड़न का शिकार नहीं होती हैं बल्कि पुरुष भी हवस का शिकार होते हैं। ताजा मामला जम्मू एंड कश्मीर का है जहां पर एक मौलवी पर लड़कों के साथ कुकर्म करने का आरोप लगा है। मौलवी पर आरोप है कि वह जिन्न की नजर लगने और बुराई से बचाने के बहान लड़कों के साथ कुकर्म किया करता था। कश्मीर पुलिस ने आरोपी मौलवी एजाज़ शेख के खिलाफ धारा 377 के तहत केस दर्ज किया है। मौलवी शादीशुदा है तीन बच्चों का पिता है। मेल टुडे के अनुसार शेख और उसके परिजनों का कहना है कि उन्हें गलत केस में फंसाया जा रहा है क्योंकि उन्होंने पीड़ित के परिवार को उधार में पैसा दिया था जिसे वह वापस नहीं दे रहा था।

आरोपी मौलवी शेख के भाई ने कहा कि मेरा भाई बहुत ही धार्मिक व्यक्ति है और उसे फंसाया जा रहा है। हर रविवार मेरे भाई के फॉलोअर्स घर पर उससे दुआए लेने के लिए आते हैं और इसमें उसे आपसे बात करने के लिए एक मिनट भी नहीं मिलेगा। वहीं आरोपी से जब बात की गई तो उसने कहा कि मैं निर्दोष हूं। आप लोग मुझपर यकीन नहीं करेंगे लेकिन आप गांव में किसी से भी पूछ सकते हैं तब आपको मेरी क्या इज्जत है पता चल जाएगा। जब मौलवी से जिन्न के बारे में पूछा गया तो उसने कहा कि मैं जिन्न से बचने के लिए केवल लोगों को एक ताबीज़ देता हूं और उन्हें किसी तरह की दवाई नहीं दी जाती।

बता दें कि मौलवी पर आरोप लगा है कि वह जिन्न को खुद के काबू में करने की बात करता है और कहता है कि वह केवल 14 साल से कम लड़कों से ही बात करता है। वह बच्चों से बहुत ही अश्लील बाते करता था। मौलवी के खिलाफ केस दर्ज कराने वाले पीड़ितो ने कहा कि हमने पहले केस इसलिए दर्ज नहीं कराया था क्योंकि हम बहुत छोटे थे और हम डर गए थे। हमें इस ट्रॉमा से निकलने में कई साल लग गए। एक पुरुष होने के नाते हमें डरने और कमजोर बने रहने की इजाजत नहीं है लेकिन हमारे ऊपर परिवार की इज्जत बचाने की जिम्मेदारी भी थी।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.