ताज़ा खबर
 

कश्‍मीर: हिन्‍दू बहुल गांव ने कायम की मिसाल, मुस्लिम को चुना पंच

संयोग से, गांव के 450 निवासियों में हुसैन एकमात्र मुस्लिम परिवार के है। वह अपनी पत्नी, पांच बेटों और एक बहू के साथ गांव में रह रहे हैं उनकी 4 बेटियां भी हैं जिनकी शादी हो चुकी है।

गांव वालों ने इस दूरदराज के इलाके से देश में संदेश फैलाने के लिए हुसैन में अपना विश्वास दिखाया। (फोटो पीटीआई)

सांप्रदायिक सद्भाव और भाईचारे का एक उदाहरण स्थापित करते हुए, जम्मू-कश्मीर के भद्रवाहा में एक हिंदू बहुमत वाले गांव ने मुस्लिम को पंचायत चुनावों में अपना निर्विरोध पंच चुना। मवेशी पालने वाले 54 साल के चौधरी मोहम्मद हुसैन को हंगा पंचायत के भेलान-खारोथी गांव का पंच बनाया गया है। संयोग से, गांव के 450 निवासियों में हुसैन एकमात्र मुस्लिम परिवार के है। वह अपनी पत्नी, पांच बेटों और एक बहू के साथ गांव में रह रहे हैं उनकी 4 बेटियां भी हैं जिनकी शादी हो चुकी है। स्थानीय निवासी, दुनी चंद (57) ने बताया, “यह आज ध्रुवीय और सांप्रदायिक रूप से प्रेरित समाज में विचित्र लग सकता है, लेकिन हम अपने साझा भाईचारे में गर्व महसूस करते हैं।”

उन्होंने कहा कि हुसैन अपने समुदाय की सर्वसम्मत पसंद थे जो सामंजस्यपूर्ण सहअस्तित्व के लिए एक उदाहरण स्थापित करना चाहते थे और भाईचारे को बढ़ावा देना चाहते थे जो कि देश की ताकत है। चांद ने कहा, “धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण और विभाजन की कथा ने हमारी धारणा को नहीं हटाया है कि हम एक ही परिवार का हिस्सा हैं। अगर इस भी हमारी एकजुटता को नष्ट नहीं किया गया है, तो अब यह कभी नहीं होगी।

उन्होंने कहा कि गांव वालों ने इस दूरदराज के इलाके से देश में संदेश फैलाने के लिए हुसैन में अपना विश्वास दिखाया और उन्हें आश्वस्त किया कि गांव के लोग हर स्थिति में उनके साथ हैं। “इसमें कोई संदेह नहीं है कि हुसैन गांव के मुद्दों को संभालने में सक्षम हैं, लेकिन हमने उन्हें समाज में एक उदाहरण स्थापित करने और हुसैन को को अलग महसूस न होने देने के लिए चुना है।” गांव के युवा भी इस फैसले से खुश हैं और भेलान निवासी होने पर गर्व महसूस करते हैं। एक युवा ने कहा कि “मैं एक ऐसे गांव में पैदा होने के लिए भाग्यशाली महसूस कर रहा हूं, जहां मेरे बुजुर्गों ने मौजूदा स्थिति पर एक बड़ा निर्णय लिया है। मुझे उम्मीद है कि समाज पूरी तरह से हमारे बुजुर्गों के फैसले से सबक लेगा और देश को बचाने के लिए परस्पर विश्वास और विश्वास को परेशान करने वाले तत्वों को अलग करेगा।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App