ताज़ा खबर
 

पद से इस्तीफा दे सकते हैं जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा, ये है वजह

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा इस्तीफा दे सकते हैं।
जानकारी के मुताबिक एन एन वोहरा ने इस्तीफा देने का मन बना लिया है। (फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा इस्तीफा दे सकते हैं। इंडियन एक्सप्रेस को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एनएन वोहरा ने पिछले सप्ताह ही पद से इस्तीफा देने का मन बन लिया था। खबर के अनुसार एनएन वोहरा अपना कार्यकाल पूरा होने के दस महीने पहले ही इस्तीफा दे सकते हैं। पिछले महीने भी ये खबर आई थी कि जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने इस्तीफा देने की मंशा जताई है लेकिन गृह मंत्रालय की तरफ से इस मुद्दे पर कोई बयान नहीं आया। तब मंत्रालय ने कहा था कि मामले में राज्यपाल की तरफ से उन्हें कोई पत्र नहीं मिला। वोहरा को 25 जून 2008 को जम्मू-कश्मीर का राज्यपाल बनाया गया था। गौरतलब है कि कुछ महीने पहले ये खबर आई थी कि जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा ने खुद गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर उनका विकल्प ढूंढने के लिए कहा है। वोहरा ने पत्र में स्वास्थ्य कारणों का हवाला देकर पद पर बने रहने में असमर्थता जताई थी। एनएन वोहरा साल 2013 में दूसरी बार जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल बने था।

सूत्रों के अनुसार केंद्रीय मंत्रिमंडल में चल रही फेरबदल की चर्चा के बीच सरकार दस राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति भी कर सकती है। अरुणाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, बिहार, मेघालय, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, ओडिशा और सिक्किम में नए राज्यपालों की नियुक्ति की जा सकती है। इनमें से अरुणाचल प्रदेश, तेलंगाना, बिहार, मेघालय, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु के राजभवन अतिरिक्त कार्यभार के सहारे चल रहे हैं। इनके अलावा ओडिशा, सिक्किम और आंध्र प्रदेश के भी राज्यपाल बदलने की चर्चा है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि गवर्नर वोहरा यूनियन होम सेक्रेटरी के साथ डिफेंस सेक्रेटरी के रूप में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। वोहरा प्राइम मिनिस्टर आईके गुजराल के कार्यकाल (1997-98) में प्रिंसिपल सेक्रेटरी के रूप में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। करीब 81 साल के चुके वोहरा को सरकार द्वारा पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    bitterhoney
    Aug 28, 2017 at 6:43 pm
    बीजेपी के लिए खतरे की घंटी. २०१९ में मोदी की हार तय मानी जानी चाहिए. जनता अब यह पूर्ण रूप से समझ चुकी है कि मोदीजी से यह देश चलने वाला नहीं है. चार साल में देश का ा हाल हो गया है. महंगाई ने जनता की कमर तोड़ दी है. टैक्स पर टैक्स लगता जा रहा है. टैक्स का कोई अंत दिखाई नहीं दे रहा है. यह सरकार पूरी तरह फेल हो चुकी है. जनता को आशा की कोई किरण दिखाई नहीं दे रही है.जनता ने बीजेपी सरकार को उखाड़ फेकने का मन बना लिया है.
    (0)(0)
    Reply