ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर: अलगाववादी नेता मीर वाइज उमर फारुक की जेड प्लस सुरक्षा हटाई गई, अब 16 की जगह सिर्फ आठ जवान रहेंगे मुस्तैद

मीरवाइज के पिता मीरवाइज मौलवी मोहम्मद फारुक की हत्या साल 1990 में उनके आवास पर हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों ने कर दी थी। उसी के बाद से उन्हें जेड प्लस की सुरक्षा मिली हुई थी।
अब मीर वाइज की सुरक्षा में पहले से तैनात 16 जवानों की जगह सिर्फ आठ जवान रहेंगे।

जम्मू-कश्मीर की पुलिस ने अलगाववादी नेता मीर वाइज उमर फारुक की सुरक्षा में कटौती करते हुए उसकी संख्या आधी कर दी है। अब मीर वाइज की सुरक्षा में पहले से तैनात 16 जवानों की जगह सिर्फ आठ जवान रहेंगे। प्रशासन ने यह कदम पिछले दिनों भीड़ द्वारा डिप्टी एसपी मोहम्मद अयूब पंडित की पीट-पीटकर हत्या किए जाने की घटना के बाद उठाया है। डीएसपी पंडित की हत्या पिछले 23 जून को नौहट्टा इलाके के जामिया मस्जिद के बाहर कर दी थी जब लोग अलविदा नमाज अदा करने वहां पहुंचे थे।

सूत्रों ने बताया कि हुर्रियत कॉन्फ्रेन्स के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारुक की सुरक्षा घटाने की प्रक्रिया डीएसपी की हत्या के 6 दिन बाद 29 जून को ही शुरू हो गई थी। मीरवाइज के पिता मीरवाइज मौलवी मोहम्मद फारुक की हत्या साल 1990 में उनके आवास पर हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों ने कर दी थी। उसी के बाद से उन्हें जेड प्लस की सुरक्षा मिली हुई थी।

बता दें कि मोहम्मद अयूब पंडित कश्मीरी अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक़ की सुरक्षा में ही तैनात थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मीर वाइज उमर फारूक़ उस समय मस्जिद के अंदर मौजूद थे। हालांकि, मीरवाइज ने इस बात का खंडन किया था। घटना के वक्त डीएसपी अयूब पंडित सादे लिबास में थे। डीएसपी अयूब पंडित मस्जिद के बाहर पत्थरबाजी कर रहे कुछ लोगों की तस्वीर ले रहे थे जिस पर कुछ लोग उनसे उलझ पड़े। कश्मीर में रमजान के दौरान मनाए जाने वाले शब-ए-कद्र से जुड़े नमान और अन्य धार्मिक आयोजन हो रहे थे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.