ताज़ा खबर
 

महबूबा मुफ्ती ने की पाकिस्‍तान से बातचीत की वकालत, कहा- अब मुझे एंकर राष्ट्र विरोधी घोषित कर देंगे

महबूबा मुफ्ती ने कहा, "हमने पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाइयां लड़ीं और सभी में जीत हासिल की, लेकिन आज भी बातचीत के अलावा कोई समाधान नहीं है, कब तक हमारे जवान और नागरिक मरते रहेंगे"

Mehbooba mufti, Jammu and Kashmir cm Mehbooba mufti, jk cm mehbooba, Pakistan, India, Jammu attacks, Sunjuwan Army Station, Sunjuwan Army camp, India Pakistan dialouge, Jammu news, Hindi news, News in Hindi, Jansattaमहबूबा बोलीं- अगर अटल जी आज के वक्त में बस लेकर लाहौर जाते हैं तो उन्हें मीडिया क्या कहती?

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने पाकिस्तान से बातचीत की वकालत की है। महबूबा मुफ्ती ने सोमवार (12 फरवरी) को जम्मू कश्मीर विधानसभा में कहा कि कुछ मीडिया संस्थानों ने ऐसा वातावरण बना दिया है कि यदि हम पाकिस्तान के साथ बातचीत के बारे में बोलते हैं तो हमें राष्ट्रविरोधी करार दे दिया जाता है। महबूबा मुफ्ती ने कहा, “हमने पाकिस्तान के खिलाफ लड़ाइयां लड़ीं और सभी में जीत हासिल की, लेकिन आज भी बातचीत के अलावा कोई समाधान नहीं है, कब तक हमारे जवान और नागरिक मरते रहेंगे, आश्चर्य होता है कि अगर अटल जी आज के वक्त में बस लेकर लाहौर जाते हैं और डायलॉग की बात करते तो उन्हें कुछ मीडिया संस्थान क्या कहते।” बता दें कि जम्मू के सुंजवां स्थित आर्मी कैंप में शनिवार हुए हमले में पांच सैनिक और एक नागरिक की मौत हो गई। लश्कर-ए-तैयबा ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। सोमवार (12 फरवरी) को श्रीनगर के करणनगर में सीआरपीएफ कैंप पर हुए हमले में एक सैनिक शहीद हो गया। जम्मू-कश्मीर विधानसभा में आज सुंजवां हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि युद्ध दोनों देशों के लिए समाधान नहीं है और खूब खराबे को बंद करने के लिए बातचीत जरूरी है। महबूबा ने ट्वीट किया, “यदि खून खराबे को बंद करना है तो डायलॉग जरूरी है, मैं जानती हूं आज रात एंकर मुझे राष्ट्रविरोधी घोषित कर देंगे, लेकिन इससे फर्क नहीं पड़ता है, जम्मू कश्मीर के लोग कष्ट उठा रहे हैं, हमें बात करनी होगी क्योंकि युद्ध विकल्प नहीं है।” इधर जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला ने कहा कि जितना आतंकवाद बढ़ेगा, उतनी मुसीबत आएगी। अब्दुल्ला ने कहा कि भारत से ज्यादा मुसीबत पाकिस्तान में आएगी, वहां कुछ भी नहीं रहेगा। फारुक अब्दुल्ला ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, “अगर यही सूरत रही तो हिन्दुस्तान की हुकुमत को भी सोचना पड़ेगा कि अगला कदम क्या होगा।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पाकिस्तान ने फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, राजौरी में दागे मोर्टार, जवानों ने दिए मुंहतोड़ जवाब
2 सुंजवां हमला: 30 घंटे बाद सेना की कार्रवाई खत्म, चारों आतंकी ढेर
3 कश्मीर: 35 हफ्ते की गर्भवती महिला को लगी गोली, सेना की मुस्तैदी से बची जान, स्वस्थ बेटी को भी दिया जन्म