ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर: पत्थर का जवाब जीप से दिया तो क्या गलत किया- पहलवान ने शहला रशीद को दिया जवाब

कई यूजर्स ने सीआरपीएफ की इस कारवाई का समर्थन भी किया है। ओलंपिक पदक विजेता और मशहूर पहलवान योगेश्वर दत्त ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट कर सीआरपीएफ की कारवाई का समर्थन किया है।

घटना से जुड़ी कई तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं। (Twitter फोटो)

जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ की गाड़ी से कुचलकर एक कश्मीरी युवक की मौ त और 2 के घायल होने के बाद पूरी घाटी में विरोध प्रदर्शनों की नई लहर पैदा हो गई है। इस मुद्दे को लेकर सोशल मीडिया पर भी बहस छिड़ी हुई है और लोग अपने-अपने विचार सोशल मीडिया पर साझा कर रहे हैं। जेएनयू छात्रसंघ की नेता शहला रशीद ने भी इस मुद्दे पर एक ट्वीट कर इस घटना पर नाराजगी जाहिर की है। अपने ट्वीट में शहला रशीद ने लिखा कि शर्मनाक! जम्मू कश्मीर सरकार ने विरोध को दबाने का नया तरीका निकाला है। यह यकीनन दिल जीत लेगा। शहला रशीद ने एक अन्य यूजर के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए यह बात कही थी। शुजात बुखारी नाम के यूजर ने सीआरपीएफ की गाड़ी से चोटिल हुए युवकों की तस्वीर शेयर करते हुए ट्वीट किया था कि ‘ये तस्वीरें श्रीनगर के डाउनटाउन की हैं और काफी भयावह हैं। यह विरोध को दबाने का वीभत्स तरीका है। सरकार और सीआरपीएफ को इस बारे में जवाब देना चाहिए कि क्या यह कारवाई नए एसओपी के तहत की गई है? उम्मीद करते हैं कि घायल बच जाएंगे।’

वहीं कई यूजर्स ने सीआरपीएफ की इस कारवाई का समर्थन भी किया है। ओलंपिक पदक विजेता और मशहूर पहलवान योगेश्वर दत्त ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट कर सीआरपीएफ की कारवाई का समर्थन किया है। शहला रशीद के ट्वीट पर जवाब देते हुए योगेश्वर दत्त ने कहा कि ‘ईंट का जवाब पत्थ से और पत्थर का जवाब जीप से दे दिया तो क्या गलत कर दिया।’ योगेश्वर दत्त के इस ट्वीट को कई लोगों ने समर्थन दिया है। वहीं इस कश्मीर की इस घटना पर पुलिस अधिकारियों का कहना है कि यह घटना उस वक्त हुई, जब सीआरपीएफ का वाहन प्रदर्शनकारियों की भीड़ में फंस गया। प्रदर्शनकारियों ने सीआरपीएफ वाहन पर पत्थर बरसाने शुरु कर दिए, जिस पर सीआरपीएफ के जवान ने भीड़ से बचने के लिए वाहन को भगाना शुरु कर दिया। इसी बीच 3 प्रदर्शनकारी युवक इसकी चपेट में आ गए और सीआरपीएफ वाहन की चपेट में आ गए। इन 3 घायलों में से एक ने बाद में दम तोड़ दिया।

jammu kashmir

कश्मीर की इस घटना पर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी ट्वीट कर अपनी नाराजगी जाहिर है। अपने ट्वीट में उमर अब्दुल्ला ने कहा कि पहले लोग जीप से बांधे जाते थे, लेकिन अब प्रदर्शनकारियों पर सीधे जीप ही चढ़ा दी जा रही है। क्या ये नया एसओपी है महबूबा मुफ्ती साहिबा? सीजफायर का मतलब है हथियारों का इस्तेमाल बंद तो जीप का शुरु? फिलहाल कश्मीर में इंटरनेट सेवाएं कई इलाकों में बंद कर दी गई हैं। वहीं पुलिस ने इस मामले में 2 एफआईआर दर्ज की हैं, जिसमें सुरक्षा बलों को भी आरोपी बनाया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App