ताज़ा खबर
 

J&K: बीच बाजार पुलिस-CRPF के संयुक्त दस्ते पर लश्कर का आतंकी हमला! दो पुलिसकर्मियों समेत चार की मौत

पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर इस हमले की निंदा की है।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः शोएब मसूदी)

जम्मू और कश्मीर के बारामुला जिला स्थित सोपोर शहर में शनिवार को बड़ा हमला आतंकी हमला हो गया। आरमपोरा में नाका के पास बीच बाजार सीआरपीएफ और पुलिस के संयुक्त दस्ते पर लश्कर के आतंकियों ने हमला बोला। घटना में दो पुलिस वालों समेत चार लोगों की जान चली गई।

कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने समाचार एजेंसी ANI को इस बारे में बताया, “दो पुलिस वालों और दो नागरिकों की जान चली गई है, जबकि दो अन्य पुलिस वाले जख्मी हुए हैं। हमले के पीछे लश्कर-ए-तैयबा का हाथ है।”

अफसरों ने समाचार एजेंसी PTI को बताया, आतंकियों ने सुरक्षाबलों की टीम को निशाना बनाकर फायरिंग कर दी थी। यह हमला दोपहर के वक्त तब किया गया, जब दस्ता सोपोर मेन चौक के पास था। हमले के बाद आनन-फानन सुरक्षाबलों की ओर से इलाके के घेराबंदी कर दी गई है।

जानकारी के मुताबिक, जख्मी हुए लोगों को पास के अस्पताल में ले जाया गया। वहां से एक पुलिस वाले को इंडियन आर्मी के 92 बेस अस्पताल में शिफ्ट किया गया।

पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर इस हमले की निंदा की है। वैसे, मार्च में भी सोपोर में आतंकी हमला हुआ था, जिसमें कुछ लोगों की जान गई थी। उस हमले के पीछे भी कुख्यात आतंकी संगठन लश्कर का हाथ बताया गया था।

पाकिस्तान समेत सभी देशों के साथ ‘सामान्य’ दोस्ताना संबंध चाहता है भारतः भारत ने कहा है कि वह पाकिस्तान समेत सभी देशों के साथ ‘‘सामान्य’’ दोस्ताना संबंध चाहता है और यह जिम्मेदारी इस्लामाबाद की है वह एक ‘‘अनुकूल माहौल’’ पैदा करे और अपने क्षेत्र का किसी भी तरीके से भारत के खिलाफ सीमापार आतंकवाद के लिए इस्तेमाल न होने दे। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन में काउंसलर आर मधुसूदन ने यह टिप्पणी शुक्रवार को ‘2020 के लिए सुरक्षा परिषद की रिपोर्ट’ पर संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में कीं।

मधुसूदन ने महासभा में कहा, ‘‘भारत, पाकिस्तान समेत सभी देशों के साथ सामान्य दोस्ताना संबंध चाहता है। हमारा लगातार यह रुख रहा है कि अगर भारत और पाकिस्तान के बीच कोई मसला है तो उसका हल द्विपक्षीय तथा शांतिपूर्ण रूप से निकाला जाना चाहिए और वो भी भय, शत्रुता और हिंसा से मुक्त माहौल में।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘यह जिम्मेदारी पाकिस्तान की है कि वह अपने क्षेत्र को किसी भी तरीके से भारत के खिलाफ सीमापार आतंकवाद के लिए इस्तेमाल न करने देकर विश्वसनीय, पुष्ट कार्रवाई करे और अनुकूल माहौल बनाए।’’ (भाषा-पीटीआई इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 झारखंड के गाँवों में दो माह में 25571 मौतें- सरकार ने कराया सर्वे, पर कारण छिपाया; 12 दिन में 53 लाख घरों तक पहुंचे एक लाख कार्यकर्ता
2 पंजाब में चुनाव से पहले कैप्टन के खिलाफ नया मोर्चा! 25 साल बाद साथ आए BSP और SAD
3 गुजरात सरकार ने कांग्रेस की इस योजना को जम कर सराहा, बोली- इसने बचाई लॉकडाउन के बाद लौटे मज़दूरों की जान
ये पढ़ा क्या?
X