ताज़ा खबर
 

वेतन न मिलने पर J&K में गुस्साए प्रवासी मजदूरों ने की तोड़फोड़, गाड़ी के बोनट पर चढ़ एसएसपी ने भोजपुरी में समझाया तो बनी बात!

एसएसपी मिश्रा, मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं और 2009 बैच के आईपीएस अफसर हैं।

Jammu & Kashmir, J&K, SSP, Shailendra Mishra, IPS, Police, Bhojpuri, Chenab Textile Mills, Workers, Migrant Workers, Violent, Kathua, State News, Hindi Newsकठुआ में शुक्रवार को प्रवासी मजदूरों को समझाते हुए एसएसपी शैलेंद्र मिश्रा। (फोटोः टि्वटर स्क्रीनग्रैब/@kamaljitsandhu)

कोरोना वायरस संकट और लॉकडाउन के बीच जम्मू के कठुआ में कुछ प्रवासी मजदूरों का वेतन अटक गया, जिसे लेकर उन्होंने विरोध प्रदर्शन किया। शुक्रवार को आक्रोशित मजदूर सड़क पर तोड़फोड़ भी कर चुके थे, जिसके बाद आनन-फानन पुलिस मौके पर पहुंची। शुरुआत में इन मजदूरों का गुस्सा सातवें आसमान पर था, पर जैसे ही जिला एसएसपी ने इन सबको भोजपुरी में समझाया, तो वे उनकी बात सुनने लगे।

यह मामला Chenab Textile Mills से जुड़ा है। अचानक से कंपनी कर्मचारी विद्रोह पर उतर आए। उन्होंने पूरी तनख्वाह को लेकर हल्ला बोला। एसएसपी शैलेंद्र मिश्रा ने इस बारे में बताया, “इन्हें (मजदूरों) लगता है कि मिल द्वारा दी जा रही सैलरी अपर्याप्त है। और, ये सभी घर भी जाना चाहते हैं। घायलों को अस्पताल भेजा जा रहा है।”

सोशल मीडिया पर इस वाकये से जुड़े वायरल वीडियो में एसएसपी कठुआ शैलेंद्र मिश्रा गाड़ी के बोनट पर खड़े होकर इन मजदूरों को समझाते दिख रहे थे। उन्होंने कहा था, “पहला नुकसान हुआ मजदूरों का, दूसरा नुकसान हुआ पुलिस वालों का। आपके पेमेंट वाले मुद्दे पर हमारी प्रबंधन से बात हुई है। उमेश गुप्ता जी से मेरी सीधी बात हुई है। मैं उनसे प्रमाण मांगूगा कि स्टाफ को कितनी सैलरी दी जाएगी।”

मजदूरों को समझाते हुए वह आगे बोले, “समस्या के हल की खातिर मैं यहां आया हूं। मैं डंडा लेकर नहीं आया हूं।” यह कहते हुए उन्होंने अपने पीछे खड़े सभी पुलिसवालों को पीछे जाने को कह दिया, जिसके बाद मजदूरों ने ताली बजाई थी और फिर उनका हो-हल्ला शांत हुआ।
देखें, वीडियोः

बता दें कि एसएसपी मिश्रा, मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं और 2009 बैच के आईपीएस अफसर हैं। कठुआ पुलिस की ओर से दावा है कि इस संकट काल में वह लोगों की मदद में जुटी है। खासकर हजारों प्रवासियों को वह खाना और अन्य किस्म की सहायता मुहैया करा रही है।

Coronavirus/COVID-19 और Lockdown से जुड़ी अन्य खबरें जानने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें: शराब पर टैक्स राज्यों के लिए क्यों है अहम? जानें, क्या है इसका अर्थशास्त्र और यूपी से तमिलनाडु तक किसे कितनी कमाईशराब से रोज 500 करोड़ की कमाई, केजरीवाल सरकार ने 70 फीसदी ‘स्पेशल कोरोना फीस’ लगाईलॉकडाउन के बाद मेट्रो और बसों में सफर पर तैयार हुईं गाइडलाइंस, जानें- किन नियमों का करना होगा पालनभारत में कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार के पार, वायरस से बचना है तो इन 5 बातों को बांध लीजिये गांठ…कोरोना से जंग में आयुर्वेद का सहारा, आयुर्वेदिक दवा के ट्रायल को मिली मंजूरी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 महाराष्ट्र ने सील की दूसरे राज्यों से सटी बाउंड्री, ताकि न हो सके शराब की तस्करी, दर्जनभर चेकपोस्ट पर तैनात किए अफसर
2 ‘जो कोरोना निगेटिव हैं, वही प्रवासी लौट सकते हैं राज्य’, ओडिशा हाईकोर्ट का आदेश, परमिशन कैंसल करने के निर्देश
3 विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने का वंदे भारत मिशन, पहली खेप में दो विमानों से करल पहुंचे 363 लोग
ये पढ़ा क्या?
X