ताज़ा खबर
 

समीर टाइगर के अंतिम संस्कार में फायरिंग कर आतंकियों ने दिखाई ताकत, जुटी भारी भीड़

समीर सोमवार (30 अप्रैल) को द्रबगाम में मुठभेड़ के दौरान मारा गया था। घाटी में कई राजनेताओं के कत्ल के पीछे उसी का हाथ था। समीर बुरहान वानी का करीबी बताया जाता है और घाटी में लोग उसे हिज्बुल के नए पोस्टबॉय की नजर से देखते थे। ऐसे में उसका खात्मा सुरक्षाबलों के लिए बड़ी सफलता माना जा रहा है।

मारे गए आतंकी समीर टाइगर के जनाजे में जुटी भीड़ के दौरान कुछ लोगों ने एके-47 से फायर किए थे। (फोटोः टि्वटर/यूट्यूब)

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में मंगलवार (एक मई) को हिज्बुल कमांडर समीर अहमद उर्फ समीर टाइगर का अंतिम संस्कार किया गया। हजारों की संख्या में लोग उसके जनाजे में शामिल हुए। आतंकी के समर्थकों और कट्टरपंथियों ने इस दौरान एके-47 से फायरिंग की और अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की। घटना के दौरान किसी ने वीडियो रिकॉर्डिंग भी कर ली थी, जिसका एक वीडियो भी सामने आया है।

आपको बता दें कि समीर सोमवार (30 अप्रैल) को द्रबगाम में मुठभेड़ के दौरान मारा गया था। घाटी में कई राजनेताओं के कत्ल के पीछे उसी का हाथ था। समीर बुरहान वानी का करीबी बताया जाता है और घाटी में लोग उसे हिज्बुल के नए पोस्टबॉय की नजर से देखते थे। ऐसे में उसका खात्मा सुरक्षाबलों के लिए बड़ी सफलता माना जा रहा है।

द्रबगाम गांव में समीर को खोजने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और सीआरपीएफ ने मिलकर संयुक्त तलाशी अभियान चलाया था। सुरक्षाबल जैसे ही आतंकी के नजदीक पहुंचे, उन्होंने अचानक गोलीबारी शुरू कर दी थी। भारतीय सुरक्षाबलों ने भी इसके बाद उसका मुंहतोड़ जवाब दिया था।

HOT DEALS
  • Micromax Dual 4 E4816 Grey
    ₹ 11978 MRP ₹ 19999 -40%
    ₹1198 Cashback
  • BRANDSDADDY BD MAGIC Plus 16 GB (Black)
    ₹ 16199 MRP ₹ 16999 -5%
    ₹1620 Cashback

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, समीर अपनी मां से मिलने के लिए आया था। मगर इस बारे में सुरक्षाबलों को गुप्त सूचना मिल गई थी, जिसके बाद वह सुरक्षाबलों के निशाने पर था। समीर की लोकेशन पता लगाने के लिए ड्रोन और चॉपर का इस्तेमाल किया गया था।

समीर आठवीं कक्षा की पढ़ाई करने के बाद ही हिज्बुल मुजाहिद्दीन में शामिल हो गया था। आतंकी संगठन का हिस्सा बनने से पहले वह पत्थरबाजी की कई घटनाओं में अपने उग्र तेवर दिखा चुका था।

मुठभेड़ में उसके अलावा साथी आकिब खान भी मारा गया। पुलिस के अनुसार, समीर पर 10 लाख रुपए का ईनाम था। साल 2017 में वह सुर्खियों में तब छा गया था, जब अमेरिकन एम4 कार्बाइन के साथ उसकी तस्वीरें सामने आई थीं। आतंकियों के साथ लोहा लेते वक्त कुछ सुरक्षाबल के जवान भी जख्मी हुए थे, जिनका फिलहाल इलाज चल रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App