ताज़ा खबर
 

कश्मीर: क्रिकेट मैच से पहले पाकिस्तान का राष्ट्रगान गा रही थीं टीमें, वीडियो वायरल होने पर पुलिस ने दबोचा

कश्मीरी फिजाओं में अलगाववाद का जहर इस कदर फैल गया है कि स्थानीय स्तर पर खेले जाने वाले खेल भी इससे अछूते नहीं रह गए है।

वायरल वीडियो का स्क्रीनशॉट (सोर्स- फेसबुक)

कश्मीरी फिजाओं में अलगाववाद का जहर इस कदर फैल गया है कि स्थानीय स्तर पर खेले जाने वाले खेल भी इससे अछूते नहीं रह गए हैं। पुलिस ने दो क्रिकेट टीमों के खिलाफ पाकिस्तान का राष्ट्र गान गाने को लेकर मामला दर्ज किया है। जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा इलाके मेंं खिलाड़ियों को पाकिस्तान की जर्सी पहनकर खेलते हुए देखा गया। टीमों ने पाकिस्तान का राष्ट्र गान भी गाया। वाकया स्थानीय स्तर पर एरिन में खेले जा रहे टूर्नामेंट के फाइनल मुकाबले के शुरू होने से पहले का है। इसमें गोंडीपोरा और दर्दपोरा क्रिकेट क्लब की टीमों के बीच मैच खेला जा रहा था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो को देखने के बाद पुलिस ने खिलाड़ियों के खिलाफ मामला दर्ज किया और चार को धर दबोचा।

वीडियो में दोनों टीमों के खिलाड़ी राष्ट्रगान करते हुए दिखाई देते हैं। खिलाड़ी दो पक्तियों में खड़े हैं, एक टीम के खिलाड़ियों ने हरी जर्सियां पहनी हैं और एक ने सफेद। वीडियो में पाकिस्तान का राष्ट्र गान लाउड स्पीकर पर बजता सुनाई देता है, जिसके दौरान खिलाड़ियों ने सिर झुकाए हुए हैं।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस मामले में आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है और बुजुर्ग ग्रामीणों से भी इस बारे में बात की गई है। पुलिस आयोजकों और दूसरे आरोपी खिलाड़ियों की तलाश कर रही है। REAL KASHMIR NEWS नाम के फेसबुक पेज पर शेयर की गई मामले की तस्वीर और खबर पर लोग तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं। तौसीफ कश्मीरी नाम के यूजर ने कमेंट में लिखा- खिलाड़ी पागल हो रहे हैं, उन्हें राजनीति में न फंसते हुए क्रिकेट के नियमों के मुताबिक खेलना चाहिए। एक यूजर ने कहा कि अच्छा होगा जब तुम कश्मीर छोड़ दोगे। इस पर एक और यूजर ने कहा कि कश्मीर तुम्हारे बाप नहीं है जो इन्हें पाकिस्तान भेजें।

कश्मीर में पाकिस्तान का समर्थन करने का यह पहला मामला नहीं है, इससे पहले कई मामले सामने आ चुके हैं जब कश्मीर की कई जगहों पर पाकिस्तानी झंडे फहराए गए और पड़ोसी मुल्क के लिए नारे भी लगाए गए। भारत सरकार कई वर्षों से कश्मीरियों को समझाने की कोशिश कर रही है वे देश से अलग नहीं हैं। तमाम सरकारी कोशिशों के बावजूद सूबे में अलगाववादियों का नेटवर्क कम होने का नाम नहीं ले रहा है। मीडिया के कुछ स्टिंग ऑपरेशनों में यह तक सामने आ चुका है कि कुछ लोग पैसे लेकर कश्मीर में देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम देते हैं। इनमें पत्थरबाजों के नाम भी शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App