jammu kashmir army provide free eye operation to peoples - कश्‍मीर: सेना की टुकड़ी ने कराया 20 लोगों की आंख का ऑपरेशन, लोगों ने यूं कहा शुक्रिया - Jansatta
ताज़ा खबर
 

कश्‍मीर: सेना की टुकड़ी ने कराया 20 लोगों की आंख का ऑपरेशन, लोगों ने यूं कहा शुक्रिया

एक कार्यक्रम के दौरान सेना की 16वीं राष्ट्रीय राइफल्स यूनिट ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ इलाके में 20 लोगों की आंखों का मुफ्त ऑपरेशन किया। ये ऑपरेशन सूरनकोट सेक्टर के आर्मी अस्पताल में किए गए। इस दौरान ऑपरेशन कराने वाले लोगों ने आर्मी का शुक्रिया अदा किया और सेना की इस कोशिश की खुलकर तारीफ भी की।

भारतीय सेना की 16वीं बटालियन ने पुंछ इलाके में 20 लोगों के मुफ्त ऑपरेशन किए हैं। सेना के इस प्रयास की लोग दिल खोलकर तारीफ कर रहे हैं। (image source- ANI)

जम्मू-कश्मीर में सेना सुरक्षा देने के साथ ही कई कल्याणकारी कामों में भी लगी है। ऐसे ही एक कार्यक्रम के दौरान सेना की 16वीं राष्ट्रीय राइफल्स यूनिट ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ इलाके में 20 लोगों की आंखों का मुफ्त ऑपरेशन किया। ये ऑपरेशन सूरनकोट सेक्टर के आर्मी अस्पताल में किए गए। इस दौरान ऑपरेशन कराने वाले लोगों ने आर्मी का शुक्रिया अदा किया और सेना की इस कोशिश की खुलकर तारीफ भी की। बता दें कि सेना जम्मू कश्मीर में सद्भावना नाम से एक कार्यक्रम भी चलाती है, जिसका उद्देश्य जम्मू-कश्मीर के लोगों के सामाजिक जीवन में बेहतरी, इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण और राज्य में शांति की स्थापना करना है।

सेना ने 1990 के दशक में कश्मीर में सद्भावना कार्यक्रम की शुरुआत की थी। इस कार्यक्रम के तहत सेना राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में भी काफी काम कर रही है। राज्य के करीब 1 लाख बच्चों को सेना माध्यमिक और उच्च शिक्षा उपलब्ध करा रही है। वहीं, घाटी के 14000 बच्चे आर्मी द्वारा संचालित स्कूलों में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। 1000 से ज्यादा बच्चे आर्मी द्वारा दी जा रही स्कॉलरशिप की मदद से राज्य के बाहर पढ़ाई कर रहे हैं।

पिछले कुछ सालों में सेना लाखों लोगों को मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध करा चुकी हैं। साथ ही, घाटी के जानवरों के लिए भी सेना समय-समय पर वेटरनरी कैंप आयोजित करती रहती है। जम्मू-कश्मीर के लोगों के बीच सेना द्वारा आयोजित किए जाने वाले मेडिकल और वेटरनरी कैंप काफी लोकप्रिय हैं और इन कैंपों के दौरान बड़ी संख्या में लोग अपना इलाज कराते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App