ताज़ा खबर
 

कश्मीर शहीद दिवस के कार्यक्रम में लगातार दूसरे साल नहीं पहुंचे राज्यपाल, अब्दुल्ला ने मलिक को बताया ‘बीजेपी का गवर्नर’

शहीद दिवस के कार्यक्रम में पिछले साल तत्कालीन राज्यपाल एनएन वोहरा नहीं पहुंचे थे। इस बार राज्यपाल सत्यपाल मलिक भी इस कार्यक्रम में नहीं पहुंचे।

Author नई दिल्ली | July 14, 2019 1:43 PM
कार्यक्रम में सत्य पाल मलिक के सलाहकार खुर्शीद अहमद गनई पहुंचे। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल ने श्रीनगर में शनिवार को शहीद दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए। ऐसा पहली बार नहीं है कि किसी राज्यपाल ने शहीद दिवस कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लिया हो।

पिछले साल तत्कालीन गवर्नर एनएन वोहरा भी नहीं पहुंचे। राज्यपाल सत्य पाल मलिक के कार्यक्रम में शामिल नहीं होने पर विपक्षी दल की तरफ से कड़ी प्रतिक्रिया आई है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने गवर्नर पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘बीजेपी का गवर्नर’ बताया।

हालांकि, शहीद दिवस के इस कार्यक्रम में मलिक के सलाहकार अब्दुल अहमद गनई और अन्य प्रशासनिक अधिकारी इस कार्यक्रम में शामिल हुए। जम्मू और कश्मीर में 13 जुलाई को शहीद दिवस मनाया जाता है। 1931 में महाराज हरी सिंह की तरफ से गोलीबारी में 22 लोगों की मौत की याद में यह शहीद दिवस मनाया जाता है।

पिछले साल की तरह भाजपा ने इस साल भी इस कार्यक्रम से अपनी दूरी बनाए रखी। वहीं राज्य के अन्य दल इस कार्यक्रम में शामिल हुए। अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा, ‘मलिक ‘भाजपा के गवर्नर’ थे, मलिक ‘भाजपा के गवर्नर’ हैं। ऐसे में वह कैसे आएंगे।’ ये पहली बार नहीं है कि राज्य के राजनीतिक दलों ने राज्यपाल को लेकर इस तरह की राय व्यक्त की हो।

अमरनाथ यात्रा के दौरान स्थानीय नागरिकों की प्रशासन की तरफ से हाईवे बंद रखने के मुद्दे को लेकर भी राज्यपाल राजनीतिक दलों के निशाने पर रहे हैं। इन दलों का कहना है कि इससे पहले कभी भी अमरनाथ यात्रा के दौरान इस तरह के प्रतिबंध नहीं लगाए गए थे।

इससे पहले जम्मू-कश्मीर प्रशासन की तरफ से शहीद दिवस पर एक विज्ञप्ति जारी की गई थी। इसमें राज्यपाल ने राज्य के सभी मोर्चों पर तेजी से वृद्धि और विकास सुनिश्चित करने के लिए समाज के सभी हिस्सों से सामूहिक प्रयास करने की अपील की गई थी। मलिक के हवाले से विज्ञप्ति में कहा गया था, ‘जम्मू और कश्मीर हमेशा से अपने बहुलतावादी लोकाचार और सौहार्द के लिए जाना जाता है। साथ ही राज्य की समृद्धि और विकास के लिए एकता और भाईचारा बनाए रखने के महत्व पर जोर देता रहा है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App