ताज़ा खबर
 

पाकिस्‍तान ने फिर मारे हमारे दो नागरिक और एक सैनिक, उमर अब्‍दुल्‍ला ने की बातचीत की वकालत

अंतरराष्‍ट्रीय सीमा पर पाकिस्‍तान की ओर से हो रही गोलीबारी के कारण स्‍थानीय लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर ले जाया जा रहा है। स्‍कूलों को तीन और दिन के लिए बंद रखने का आदेश दिया गया है।

Author नई दिल्‍ली | January 20, 2018 7:17 AM
जम्‍मू के हीरानगर में पाकिस्‍तानी गोलीबारी में घायल महिला को अस्‍लपताल ले जाते लोग। (फोटो सोर्स: पीटीआई)

जम्‍मू से लगती सीमा के पाास पाकिस्‍तान द्वारा संघर्ष विराम का उल्‍लंघन कर भारी गोलीबारी की जा रही है। इसमें दो नागरिक और एक जवान मारे जा चुके हैं। इसके बावजूद जम्‍मू-कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला ने पड़ोसी देश के साथ बातचीत की वकालत की है। उमर इससे पहले भी पाकिस्‍तान के साथ वार्ता शुरू करने की वकालत कर चुके हैं। नेशनल कांफ्रेंस के नेता ने पहले कहा था कि वे भारत और पाकिस्‍तान के बीच प्रमुख मुद्दों का समाधान निकालने के लिए दोनों देशों के बीच वार्ता को समर्थन देना जारी रखेंगे। राज्‍य का मुख्‍यमंत्री रहते हुए भी उन्‍होंने बातचीत शुरू करने की बात कही थी। उनका ताजा बयान ऐसे समय आया है जब पड़ोसी देश अग्रिम सैन्‍य चौकियों के साथ ही असैन्‍य क्षेत्र को भी निशाना बना रहा है।

पाकिस्‍तान की ओर से की जा रही भारी गोलीबारी से स्‍थानीय लोग बेहद सहमे हुए हैं। उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इसका एक ही बार में समाधान करने की मांग की है। वहीं, सुरक्षाबलों ने स्‍थानीय लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर ले जाने का काम शुरू कर दिया है, ताकि नागरिकों को कोई नुकसान न हो। इस बीच, राजौरी के उपायुक्‍त शाहिद इकबाल चौधरी ने बताया कि सीमा पर संघर्ष विराम के उल्‍लंघन को देखते हुए स्‍कूलों को अगले तीन दिनों के लिए बंद रखने का फैसला लिया गया है। उन्‍होंने बताया कि हालात की समीक्षा के बाद आगे कोई फैसला लिया जाएगा। इकबाल चौधरी के मुताबिक, शुक्रवार (19 जनवरी) को दोपहर बाद 1:50 बजे संघर्ष विराम के उल्‍लंघन की सूचना मिली थी। उन्‍होंने किसी भी तरह के नुकसान से इनकार किया है। वहीं, गृह राज्‍य मंत्री हंसराज अहीर ने सीजफायर उल्‍लंघन पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्‍होंने कहा कि आतंकियों के घुसपैठ और संघर्ष विराम का उल्‍लंघन पाकिस्‍तान के घटिया चरित्र को दिखाता है। केंद्रीय मंत्री ने एक जवान के शहीद होने पर दुख जताया और कहा कि भारतीय सुरक्षाबल मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं, हमारे जवान राष्‍ट्र और नागरिकों की सुरक्षा कर रहे हैं।

इससे पहले बुधवार (17 जनवरी) को भी पाकिस्‍तान ने अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास भारतीय चौकियों को निशाना बनाते हुए गोलीबारी की थी। इसमें बीएसएफ के जवान सुरेश शहीद हो गए थे, जबकि एक अन्‍य घायल हुए थे। इसके बाद भारत ने पलटवार किया था। इससे बौखलाए पाकिस्‍तान ने गुरुवार (18 जनवरी) को भारत के उप-उच्चायुक्त जेपी सिंह को तलब किया और भारत पर बिना किसी उकसावे के संघर्ष विराम का उल्लंघन करने का आरोप लगाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App