ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी कांग्रेस, बोले कांग्रेस नेता

बैठक के बाद अब्दुल्ला के आवास के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए जेकेपीसीसी के अध्यक्ष जी ए मीर ने कहा कि गठबंधन के सहयोगियों के बीच कोई मतभेद नहीं है क्योंकि हर कोई समझता है कि यह जम्मू और कश्मीर के लोगों के अधिकारों के लिए एक बड़ी लड़ाई का हिस्सा है।

jammu and kashmir,, DDC poll, gupkar,मीर ने कहा कि केंद्र की नीतियां यहां के लोगों के अनुकूल नहीं हैं। (फाइल फोटो)

जम्मू कश्मीर में जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव में कांग्रेस पार्टी नेशनल कॉन्फ्रेंस और महबूबा मुफ्ती की पीडीपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। यह जानकारी जम्मू-कश्मीर के कांग्रेस प्रमुख जीए मीर ने दी।

मीर ने कहा कि हम उन लोगों को हराने की कोशिश करेंगे जो केंद्र शासित प्रदेश में कानूनों को जबरदस्ती थोप रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये नीतियां यहां के लोगों के अनुकूल नहीं हैं। इससे पहले रविवार को ही जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव के दूसरे चरण के लिए गुपकर घोषणापत्र गठबंधन (पीएजीडी) शुरुआती अड़चनों के बाद सीटों के बंटवारे को लेकर एक आम सहमति बन गई। शनिवार को भी पीएजीडी  सदस्यों की मैराथन बैठक हुई थी।

शनिवार को डीडीसी चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे को लेकर किसी फार्मूले को अंतिम रूप देने में विफल रहे थे। यह दो दिनों में पीएजीडी सदस्यों की इस मुद्दे पर तीसरी बैठक थी। गठबंधन के सहयोगियों ने नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के आवास पर रविवार को भी विचार-विमर्श किया। अब्दुल्ला पीएजीडी के अध्यक्ष भी हैं।

पीएजीडी के एक नेता ने कहा कि बैठक में चुनावों के दूसरे चरण के लिए सीटों के बंटवारे को लेकर सहमति बनी है। उन्होंने कहा कि अब्दुल्ला की अध्यक्षता में हुई बैठक में पीडीपी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, जम्मू कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी (जेकेपीसीसी) के अध्यक्ष जी ए मीर, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद लोन, माकपा के नेता एम वाई तारिगामी, अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष मुजफ्फर शाह आदि मौजूद थे।

उन्होंने बताया कि आठ चरणों में होने वाले चुनाव के शेष चरणों के लिए भी सीटों के बंटवारे को लेकर विचार-विमर्श जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि सीटों के बंटवारे की सूची को गठबंधन द्वारा मीडिया के साथ एक या दो दिन में साझा किये जाने की संभावना है।

इस बीच, बैठक के बाद अब्दुल्ला के आवास के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए जेकेपीसीसी के अध्यक्ष जी ए मीर ने कहा कि गठबंधन के सहयोगियों के बीच कोई मतभेद नहीं है क्योंकि हर कोई समझता है कि यह जम्मू और कश्मीर के लोगों के अधिकारों के लिए एक बड़ी लड़ाई का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि रविवार की बैठक सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप देने के लिये आयोजित की गई थी।

जब उनसे पूछा गया कि क्या कांग्रेस केवल चुनावों के लिए गठबंधन में है या इसके बाद भी इसका हिस्सा रहेगी तो उन्होंने कहा, ‘‘ये चीजें बाद में आयेंगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह व्यावहारिक है कि चुनाव राजनीति का आधार है। हम एक एजेंडे के साथ चुनाव में जा रहे हैं और मुझे लगता है कि हमें पहले उस पर ध्यान देना चाहिए।’’ जम्मू-कश्मीर में 28 नवंबर से 24 दिसंबर के बीच आठ चरणों में डीडीसी चुनाव कराए जाएंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 …कोड़े खाते दिखाई दिए छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल, जानें क्या है वजह
2 बिहारः डिप्टी सीएम पद से सुशील मोदी का पत्ता कटा, छलका दर्द बोले-कार्यकर्ता का पद कोई नहीं छीन सकता
3 J&K से बदतर हैं बंगाल के हालात, यहां हुई अल-कायदा आतंकियों की पहचान- बोले दिलीप घोष
ये पढ़ा क्या?
X