ताज़ा खबर
 

मुंबई और आस-पास के इलाकों में तेज हवा के साथ हुई बारिश, लोगों को मिली राहत

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी), मुंबई के मौसम विज्ञान के उप महानिदेशक के एस होसलिकर ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा, “महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में तेज हवाओं के साथ ही बारिश भी हुई, खासकर आंतरिक इलाकों में।”

Author Updated: June 1, 2020 11:46 PM
rain in delhi ncr, delhi ncr weatherदक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल होती जा रही हैं। (फाइल फोटो)

मुंबई और उसके आस-पास के कुछ इलाकों में सोमवार सुबह तूफान आने के साथ ही हल्की बारिश हुई। अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के बाद यहां गरज के साथ छींटे पड़े हैं। मुंबई शहर, उसके उपनगरीय इलाकों और पड़ोस के ठाणे और पालघर के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश होने से वहां के लोगों को गर्म एवं चिपचिपे मौसम से कुछ राहत मिली है। रविवार को भी, पुणे समेत राज्य के कुछ हिस्सों में तेज हवाएं चलने के साथ बारिश हुई थी।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी), मुंबई के मौसम विज्ञान के उप महानिदेशक के एस होसलिकर ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा, “महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में तेज हवाओं के साथ ही बारिश भी हुई, खासकर आंतरिक इलाकों में।” आईएमडी के मुताबिक अरब सागर में बन रहा कम दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान में बदल सकता है और तीन जून को उत्तरी महाराष्ट्र और गुजरात तट से टकरा सकता है।

महाराष्ट्र के मु्ख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मछुआरों से समुद्र में नहीं जाने की रविवार को अपील की थी। राज्य सरकार ने किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए कोंकण तट के पास सुरक्षा उपाय बढ़ा दिए हैं।  ठाकरे ने पिछले हफ्ते सरकार, आईएमडी, बृहन्मुंबई महानगरपालिका, सेना, नौसेना और वायुसेना के अधिकारियों के साथ मॉनसून की तैयारी को लेकर बैठक की थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 प्रशांत किशोर के जरिए पंजाब जीतना चाहती है Congress, पर PK पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु में व्यस्त; संग काम करने के कम हैं चांस
2 जीवन भर की कमाई दान: दस साल पहले खोया था जवान बेटा, कोरोना और तूफान के मारों के दर्द ने झकझोरा
3 कल-कारखाने खुले तो 65 हजार प्रवासी श्रमिकों ने छोड़ दिया घर वापसी का प्लान, 11 ट्रेनें करनी पड़ीं कैंसल
ये पढ़ा क्या?
X