ताज़ा खबर
 

विपक्ष के कड़े विरोध के बावजूद स्कूलों में योग को अनिवार्य करने संबंधी प्रस्ताव मंजूर

सत्तारूढ़ गठबंधन ने योग को स्कूलों के लिए वैकल्पिक बनाने के कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के संशोधनों को भी खारिज कर दिया।

Author मुंबई | August 25, 2016 4:43 AM
21 जून 2015 को इंटरनेशनल योगा डे पर पीएम नरेंद्र मोदी के साथ राजपथ पर योग करते 36 हजार लोग।

विपक्षी दलों के कड़े विरोध के बावजूद शिवसेना और भाजपा शासित बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने नगर निगम के सभी स्कूलों में योग और सूर्य नमस्कार को अनिवार्य करने संबंधी एक प्रस्ताव को अपनी मंजूरी दे दी। प्राचीन अभ्यास और परंपरा को छात्रों के जीवन में शामिल कर उनके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के उद्देश्य से भाजपा पार्षद समिता कांबले ने मंगलवार को प्रस्ताव पेश किया, जिसे बीएमसी की आम सभा ने हरी झंडी दे दी। सत्तारूढ़ गठबंधन ने योग को स्कूलों के लिए वैकल्पिक बनाने के कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के संशोधनों को भी खारिज कर दिया। इसके अलावा सूर्य नमस्कार को हटाए जाने की सपा की मांग को भी खारिज कर दिया गया।

समाजवादी पार्टी की पार्षद रईस शेख ने यह कहते हुए इसका विरोध किया था कि स्कूलों में सूर्य नमस्कार को अनिवार्य बनाया जाना एक तरीके से हिंदुत्व को बढ़ावा देना है, क्योंकि सूर्य नमस्कार की बुनियाद हिंदू देवता सूर्य से जुड़ी हुई है। उन्होंने दावा किया कि अगर बीएमसी इसे अनिवार्य बनाती है तो मुसलिम अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजना बंद कर देंगे। आम सभा द्वारा पारित प्रस्ताव को अब नगर आयुक्त अजय मेहता को भेजा जाएगा, जो इस पर अंतिम निर्णय करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App