ताज़ा खबर
 

आइएस के लिए भर्ती करने वाला पुलिस हिरासत में, महाराष्ट्र सहित करीब 12 राज्यों में आइएस का असर

आतंकवादी संगठन आइएसआइएस के लिए नौजवानों की भर्ती करने वाले व्यक्ति को रविवार को पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। आइएसआइएस का असर महाराष्ट्र सहित करीब दर्जन भर राज्यों में देखा जा रहा है।

मुंबई | Updated: January 25, 2016 2:02 AM
ISIS का असर राजस्‍थान, महाराष्ट्र सहित करीब दर्जन भर राज्यों में देखा जा रहा है। (फाइल फोटो)

आतंकवादी संगठन आइएसआइएस के लिए नौजवानों की भर्ती करने वाले व्यक्ति को रविवार को पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। आइएसआइएस का असर महाराष्ट्र सहित करीब दर्जन भर राज्यों में देखा जा रहा है। महाराष्ट्र पुलिस ने आइएसआइएस के बारे में युवाओं को कट्टर बनाने वाली 94 वेबसाइटें वर्ष 2015 में ब्लॉक की हैं। महाराष्ट्र की आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) के अधिकारी ने बताया कि आइएसआइएस के लिए नौजवानों की भर्ती करने के आरोप में रिजवान अली को शनिवार को उत्तर प्रदेश के कुशीनगर से गिरफ्तार किया गया था। उस पर मुंबई के उपनगरीय मलवानी इलाके से कथित तौर पर आइएसआइएस के लिए लड़कों की भर्ती करने का आरोप है। 23 वर्षीय व्यक्ति को यहां एक अवकाशकालीन मजिस्ट्रेट के समक्ष रविवार को पेश किया गया जिसने उसे 30 जनवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। एटीएस को शक है कि उसने कथित रूप से अयाज सुल्तान को कट्टरपंथी बनाया जिसने रिपोर्टों के अनुसार आइएसआइएस से जुड़ने के लिए पिछले माह देश छोड़ दिया।

महाराष्ट्र के आतंकवाद निरोधक दस्ते के प्रमुख विवेक फणसालकर ने यहां रविवार को बताया ‘आइएसआइएस का प्रभाव (देश के) 10 से 12 राज्यों में देखा जा रहा है। पुलिस ने पिछले साल (वर्ष 2015 में) 94 वेबसाइटों को ब्लॉक किया जिनका उपयोग युवाओं को आइएसआइएस को लेकर कट्टर बनाने के लिए किया जा रहा था।’ ‘आइएसआइएस’ के खतरे से निपटने के लिए महाराष्ट्र एटीएस ने भी आनलाइन तरीके अपनाने का फैसला किया है।

एटीएस प्रमुख ने बताया ‘हम एटीएस की एक समर्पित वेबसाइट शुरू करने की तैयारी में हैं जिसका उपयोग समाज में जागरूकता का प्रसार करने और उन लोगों को मुख्यधारा में लाने के लिए किया जाएगा जो उनकी तिकड़मों का शिकार हो रहे हैं। हमें विश्वास बहाली के लिए बहुत प्रयास करने हैं और समाज में आइएसआइएस के खतरे से निपटने के लिए पहचान, निगरानी, मुकाबला आदि भी करना है।’ अधिकारी के अनुसार, सबसे अच्छी बात यह है कि कई सामुदायिक नेता और धार्मिक नेता (आइएसआइएस के) इस प्रभाव के खिलाफ हैं और युवाओं को जागरूक करने तथा उन्हें मुख्यधारा से जोड़ने में पुलिस की मदद कर रहे हैं।

Next Stories
1 मुंबई एअरपोर्ट को धमकी भरा फोन, हवाई अड्डे को उड़ाने की धमकी
2 मुंबई: तेज रफ्तार मर्सिडीज कार ने फुटपाथ पर सो रहे पांच लोगों को कुचला
3 मुंबई के कोर्ट में पेश हुए केजरीवाल
ये  पढ़ा क्या?
X