ताज़ा खबर
 

Coronavirus: मुंबई के इस्कॉन मंदिर में कोरोनावायरस से बचने के लिए बिना अनुमति सेनिटाइजर की जगह रखा गोमूत्र

भारत में महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से संक्रमण के सर्वाधिक 37 मामले दर्ज किए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए औरंगाबाद के समीप विश्व प्रसिद्ध अजंता और एलोरा की गुफाओं, मुंबई स्थित सिद्धिविनायक मंदिर और उस्मानाबाद जिले में तुलजा भवानी मंदिर बंद रहेंगे।

एक यूजर ने लिखा कि मंदिर परिसर में उसके हाथों पर गोमूत्र छिड़का गया। (Photo: Raju P. Nair/Twitter)एक यूजर ने लिखा कि मंदिर परिसर में उसके हाथों पर गोमूत्र छिड़का गया। (Photo: Raju P. Nair/Twitter)

मुंबई के इस्कॉन मंदिर में कोरोनावायरस के खतरे से बचने के लिए श्रद्धालुओं के लिए गेट पर गोमूत्र रखा गया है। श्रद्धालुओं का आरोप है कि यह उनकी बिना अनुमति के रखा गया है। हालांकि, इस्कॉन की तरफ से इस आरोप से इनकार नहीं किया गया।

मंदिर प्रशासन का कहना है कि सिर्फ 15 मार्च रविवार को को गोमूत्र का प्रयोग किया गया क्योंकि अल्कोहल वाले हैंड सैनिटाइजर की कमी हो गई थी। इस्कॉन की प्रवक्ता परीजाता देवी ने बताया कि हैंड सैनिटाइजर की जगह जो प्रयोग किया गया वो गोमूत्र था। यह संक्रमण रोधी और एंटी बैक्टिरियल है। हमने थोड़े समय के लिए इसका प्रयोग किया था। उस दौरान हमारे पास सैनिटाइजर की कमी थी।

मंदिर प्रशासन की तरफ से कहा गया कि यह नियमित रूप से नहीं किया जाता है। हालांकि मंदिर की प्रवक्ता का कहना था कि इसका प्रयोग करने का वैज्ञानिक आधार है। गोमूत्र को एंटी फंगल, एंटी बैक्टिरियल और एंटी कैंसर एजेंट जैसे औषधीय गुणों के कारण अमेरिका से पेटेंट हासिल है। दूसरी तरफ इस्कॉन मंदिर की तरफ से बिना अनुमति के गोमूत्र रखे जाने को लेकर सोशल मीडिया पर भी खूब चर्चा हो रही है।

एक यूजर @RajuPNair ने लिखा कि मैं और मेरा दोस्त जब अंधेरी के इस्कॉन मंदिर परिसर में स्थित गोविंद रेस्टोरेंट गए। यहां हमें सुरक्षा जांच से गुजरना पड़ा। तलाशी के बाद उन्होंने मुझे अपने हाथ दिखाने के लिए कहा और कुछ स्प्रे किया जिससे अजीब गंध आ रही थी। जब मैंने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि यह गोमूत्र है।

मालूम हो कि सोमवार को लद्दाख, ओडिशा, जम्मू-कश्मीर और केरल में सोमवार को कोरोना वायरस से संक्रमण का एक-एक नया मामला सामने आने के साथ ही देश में वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 114 हो गई है। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर अधिकारियों ने एहतियात के तौर पर कुछ प्रमुख पर्यटन और धार्मिक स्थलों को आगंतुकों के लिए बंद कर दिया है।

गौरतलब है कि भारत में महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से संक्रमण के सर्वाधिक 37 मामले दर्ज किए गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए औरंगाबाद के समीप विश्व प्रसिद्ध अजंता और एलोरा की गुफाओं, मुंबई स्थित सिद्धिविनायक मंदिर और उस्मानाबाद जिले में तुलजा भवानी मंदिर बंद रहेंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नकली टीका लगाकर कोरोनावायरस के इलाज का दावा कर रही थीं तीन महिलाएं, खुद को बता रही थीं स्वास्थ्य कर्मी; गिरफ्तार
2 शिवसेना ने कहा- कमलनाथ इतनी जल्दी हार मानने वाले नहीं, BJP महाराष्ट्र जैसे राजनीतिक ड्रामे के लिए तैयार रहे
3 अमेरिकी कंपनी ले रही थी वॉक इन इंटरव्यू, पहुंच गए शिवसेना नेता; अधिकारियों को हड़काया, कहा-80 फीसदी लोकल को दें नौकरी
यह पढ़ा क्या?
X