ताज़ा खबर
 

IRCTC: प्रयागराज महाकुंभ में 800 स्पेशल ट्रेन चलाएगा रेलवे, आसपास 10 स्टेशनों को किया जाएगा विकसित

प्रयाग क्षेत्र के करीब दस रेलवे स्टेशनों पर व्यापक तैयारियां की जा रही है। रेलवे बोर्ड इन स्टेशनों के विकास व यात्री सुविधाओं पर करीब 700 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है।

प्रयागराज महाकुंभ 2019 फोटो सोर्स- ट्विटर

उत्तरप्रदेश के प्रयाग में अगले महीने महाकुंभ-2019 शुरू होने जा रहा है। जिसके चलते देश के कोने-कोने से लोगों का अवागमन भी यहां शुरू होगा। ऐसे में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं को लेकर रेलवे ने भी कमर कस ली है। प्रयाग क्षेत्र के करीब दस रेलवे स्टेशनों पर व्यापक तैयारियां की जा रही है। रेलवे बोर्ड इन स्टेशनों के विकास व यात्री सुविधाओं पर करीब 700 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। महाकुंभ को लेकर रेलवे 800 स्पेशल ट्रेन चलाने जा रहा है। इस मामले में रेल मंत्री ने ट्वीट भी किया है।

गौरतलब है प्रयाग में महाकुंभ के चलते लाखों श्रद्धालु यहां आएंगे। जिसके लिए आवागमन हेतु रेलवे ने भी अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। महाकुंभ की तैयारियों को लेकर उत्तर रेलवे, उत्तर मध्य रेलवे और पूर्वोत्तर रेलवे संयुक्त रूप से जुटा है। बता दें कि प्रयाग क्षेत्र की सीमा में 10 रेलवे स्टेशन ऐसे है जो इन तीनों रेलवे के पास आते है। इन स्टेशनो में प्रयागघाट, फाफामऊ, नैनी, सूवेदारगंज, इलाहबाद जंक्शन, रामबाग, दारागंज आदि शामिल है जिनका कायाकल्प होना है। इन स्टेशनों को पेंट माय सिटी के तहत प्रयाग शहर और अन्य रेलवे स्टेशनों पर वाल पेंटिंग के जरिये उत्तर से लेकर दक्षिण और पूरब से लेकर पश्चिम को एक सूत्र में बांधने की कोशिश की जाएगी।

इस मामले में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर कहा, “अगले महीने प्रयागराज में होने वाले महाकुम्भ को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ को ध्यान में रखते हुए रेलवे 800 स्पेशल ट्रेन चलाने जा रही है, साथ ही 10 स्टेशनों को कुंभ मेले की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है जिससे श्रद्धालुओं को आवगमन में काफ़ी सुविधा होगी।”

आने वाली एक जनवरी से कुंभ मेला शुरू होगा। इसके मद्देनजर देशभर से प्रयागराज के लिए आठ सौ स्पेशल ट्रेनें रेलवे द्वारा चलाई जाएंगी। इसमें 622 मेला स्पेशल ट्रेनें अकेले उत्तर मध्य रेलवे, इलाहाबाद जोन की होंगी। बता दें कि एनसीआर ने रेलवे बोर्ड से 622 ट्रेनों के लिए 1400 कोच मांगे हैं। यह स्पेशल ट्रेनें 20 कोच की होंगी। मेले को देखते हुए रेलवे 13 जनवरी से छह मार्च तक यह व्यवस्थाएं जारी रखेगा। इसके अलावा स्टेशनों के निकट पांच आश्रय घर भी बनाये गए है। इलाहबाद में चार और नैनी में एक बनाया गया है। इन आश्रय घरो में करीब पचास हजार श्रद्धालु एक साथ रुक सकते है।

इलाहाबाद मंडल के जनसंपर्क अधिकारी सुनील गुप्ता के अनुसार 800 में 622 स्पेशल ट्रेनें उत्तर मध्य रेलवे चलाएगा। ट्रेनों के संचालन और उनके रखरखाव में कानपुर की प्रमुख भूमिका होगी। यहां धुलाई, सफाई और ट्रेनों को खड़ा करने की व्यवस्था होगी। उन्होंने बताया कि कुंभ आने-जाने वालों के लिए कानपुर प्रमुख प्वाइंट होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App