ताज़ा खबर
 

GL vs MI मैच देखने पहुंचे अरुण जेटली, कहा- खेल के अंदर देश को सॉफ्ट पावर बनाने की ताक़त

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अन्य खेलो को भी क्रिकेट से सीख लेनी चाहिए कि वह बिना किसी सरकार की मदद से देश का नाम पूरी दुनिया में रोशन कर रहा है।

Author कानपुर | May 21, 2016 21:26 pm
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली। (पीटीआई फाइल फोटो)

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली का मानना है कि खेल के अंदर ताकत होती है कि वह देश को सॉफ्ट पावर बना दें, देश की सॉफ्ट पावर की क्षमता पूरे विश्व पर अपना असर डालती है। इस सॉफ्ट पावर की छवि देश की आर्थिक ताकत के साथ मिलकर देश का नाम रोशन करती है। हमारे देश में क्रिकेट के अलावा हॉकी, बैडमिंटन, टेनिस, मुक्केबाजी, कुश्ती आदि कई ऐसे खेल हैं जिसमें हम पूरी दुनिया में जीतने की क्षमता रखते हैं। जेटली शनिवार (21 मई) की शाम डॉ. गौर हरि सिंहानिया क्रिकेट अकादमी का उद्घाटन करने कानपुर आए थे। कार्यक्रम के बाद पत्रकारों ने उनसे कई सवाल पूछे लेकिन उन्होंने कोई जवाब नही दिया। एक पत्रकार ने पूछा जीएसटी कब आएगा तो उन्होंने मुस्कुरा दिया। पत्रकार ने फिर पूछा अगले वर्ष जीएसटी आ जाएगा तो उन्होंने मुस्कुरा कर हां में सिर हिला दिया। इसके बाद वह गुजरात लायंस बनाम मुंबई इंडियन का मैच देखने ग्रीन पार्क स्टेडियम चले गए।

कमला क्लब के मेन गेट पर जहां जेटली क्रिकेट अकादमी का उदघाटन करने आए थे वहां पर कई व्यापारी संगठन काले कपड़ो में उनका विरोध करने के लिए खड़े थे। इनके अलावा मेडिकल परीक्षा नीट का विरोध कर रहे कुछ छात्र भी वहां उनका विरोध करने खड़े थे लेकिन जेटली कमला क्लब के पिछले गेट से आए और पिछले गेट से चले गए और व्यापारी और छात्र उनका विरोध न कर सकें और खाली जेटली के विरोध में नारेबाजी कर चले गए।

इससे पहले कमला क्लब में क्रिकेट एकेडमी का उदघाटन करते हुए उन्होंने कहा कि क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो किसी प्रकार से सरकार की मदद नही लेता जबकि क्रिकेट के दीवाने पूरे हिन्दुस्तान भर में हैं। जब किसी टीम के साथ क्रिकेट मैच होता है तो पूरा देश भारत की टीम के पीछे खड़े हो जाता है। इसी तरह अन्य खेलों को भी चाहिए कि वह अपने खेल से दर्शकों के बीच में जगह बनाए। उन्होंने कहा कि हमारे देश में हॉकी बहुत पुराना खेल है कुछ साल पहले यह पिछड़ गया था लेकिन अब फिर आगे बढ़ रहा है। इसी तरह कोई 10-12 अन्य खेल हैं जैसे बैडमिंटन, टेनिस, मुक्केबाजी, कुश्ती, तीरंदाजी आदि जिसमें विश्व भर में हमारे खिलाड़ी धूम मचा रहे हैं और दूसरे देशों में पदक जीत रहे हैं।

जेटली ने कहा कि क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों में भी हम आगे बढ़ रहे हैं। खेल के अंदर ताकत होती है कि वह देश को सॉफ्ट पावर बना दें और इस सॉफ्ट पावर की छवि देश की आर्थिक ताकत के साथ मिलकर देश का नाम रोशन करती है। उन्होंने कहा कि शनिवार (21 मई) को इस क्रिकेट अकादमी का उदघाटन करते हुए उन्हें बहुत खुशी हो रही है क्योंकि इसी तरह की अकादमियों से निकल कर युवा क्रिकेटर सुरेश रैना, प्रवीण कुमार और मोहम्मद कैफ जैसे अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी बनते हैं। यह तीनों खिलाड़ी समारोह में मौजूद थे।

उन्होंने कहा कि आज गांव गली छोटे शहरों से युवा और होनहार क्रिकेटर निकल रहे हैं और इस तरह की क्रिकेट अकादमी उन्हें अच्छा प्रशिक्षण देगी तो पहले वह जिले के लिए फिर प्रदेश के लिए और फिर देश के लिए खेलेंगे। उन्होंने कहा कि अन्य खेलो को भी क्रिकेट से सीख लेनी चाहिए कि वह बिना किसी सरकार की मदद से देश का नाम पूरी दुनिया में रोशन कर रहा है। उन्होंने कहा कि दुनिया भर में सबसे ज्यादा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम भारत में हैं। ऑस्ट्रेलिया में हर व्यक्ति कोई न कोई खेल खेलता है। चीन में हर खेल को बचपन से बढ़ावा मिलता है। हम भी चाहते हैं कि देश के अन्य प्रदेश जहां युवा क्रिकेटरों के प्रशिक्षण की व्यवस्था नहीं है वहां भी क्रिकेट अकादमी खोली जाए जिससे और अधिक युवा खिलाड़ी आगे आएं और देश का नाम रोशन करें।

आईपीएल का उदाहरण देते हुए कहा कि यहां पर कई नए क्रिकेट खिलाड़ी इतना अच्छा खेलते हैं कि बड़े-बड़े नामी खिलाड़ी उतना अच्छा नही खेल पाते हैं और फिर यहीं से वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहुंच जाते हैं। इससे पहले आईपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला ने जेटली का स्वागत करते हुए कहा कि जेटली को क्रिकेट का बहुत ज्ञान है उन्हें यहां तक मालूम रहता है कि कौन सा युवा खिलाड़ी किस प्रदेश में क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। अब इस अकादमी के खुल जाने से उत्तर प्रदेश के कई युवा खिलाड़ियों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जगह मिलेगी। कार्यक्रम में बोलते हुए गुजरात लायंस के कप्तान सुरेश रैना ने कहा कि उन्होंने सुझाव दिया है कि इस अकादमी में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को प्रशिक्षण के लिए बुलाया जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App