ताज़ा खबर
 
title-bar

तिहाड़ जेल में कुकर के लिए लड़ रहा इंडियन मुजाहिदीन का आतंकी यासीन भटकल, दो दिन भूख हड़ताल पर भी बैठा

इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी यासीन भटकल ने तिहाड़ जेल में कुकर को लेकर विरोध जताया है। बताया जा रहा है कि इसके लिए वो दिन की भूख हड़ताल पर भी था।

इंडियन मुजाहिदीन का आतंकी यासीन भटकल फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

राजधानी दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) के आतंकी यासीन भटकल की साल 2013 में गिरफ्तारी हुई थी। इसके करीब तीन साल बाद उसे सजा-ए-मौत सुनाई गई। लेकिन इस दौरान एक मामला सामने आया है, जिसमें वह अब इंडक्शन कुकर को लेकर विरोध कर रहा है। हिंदुस्तान टाइम्स में छपी खबर के अनुसार हाल ही में भटकल ने जेल में कुकर का प्रयोग फिर से शुरू करने के लिए दो दिनों की भूख हड़ताल की थी।

National Hindi News, 26 April 2019 LIVE Updates: दिनभर की बड़ी खबरों के लिए क्लिक करें

क्या है मामला: दरअसल, दिल्ली की तिहाड़ जेल प्रशासन ने पिछले साल दिसंबर में दूध और पानी गर्म करने के लिए कैदियों को इंडक्शन कुकर के इस्तेमाल करने की मंजूरी दी थी लेकिन इस दौरान शिकायत मिली कि कुछ कैदी इंडक्शन के बजाय कुकर का इस्तेमाल कर खाना बना रहे हैं, जिसके बाद कुकर वापस ले लिए गए। बता दें कि कैदियों को जेल की रसोई में खाना बनाने और लाने की अनुमति नहीं है।

हिंदुस्तान टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक यासीन भटकल ने तिहाड़ जेल में बंद पत्रकार सौम्या विश्वनाथन और जिगिशा घोष की हत्या के आरोपी दिल्ली के गैंगस्टर रवि कपूर से दोस्ती कर ली है। भटकल की भूख हड़ताल में असदुल्लाह हादी, पूर्वोत्तर दिल्ली के चीनू गिरोह के कुछ सदस्य और रवि कपूर ने भी उसका साथ दिया। तिहाड़ जेल के प्रवक्ता ने पुष्टि की कि भटकल ने विरोध शुरू किया था लेकिन जेल के अंदर किसी तरह के विरोध-प्रदर्शन पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा यह आतंरिक मामला है।

गौरतलब है कि भटकल को 2016 में हैदराबाद ब्लास्ट के मामले में अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी। बता दें कि हैदराबाद के दिलसुख नगर में 21 फरवरी, 2013 को हुए धमाके में 18 लोग मारे गए थे। इसके अलावा भटकल 2008 में अहमदाबाद व बेंगलुरु और 2012 में पुणे में हुए धमाकों का भी आरोपी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App