ताज़ा खबर
 

सियाचिन में कूली के शव का सेना ने पता लगाया

जनरल सुहाग ने यहां कहा कि सियाचीन के निर्मम क्षेत्र में किसी असैन्य कुली को सेना में काम करने के लिए आसाधारण साहस, शारीरिक योग्यता और मानसिक मजबूती की जरूरत होती है।

Author नई दिल्ली | Published on: March 2, 2016 10:51 PM
सियाचिन ग्लेशियर में भारतीय फौज की करीब 150 पोस्ट हैं, जिनमें करीब 10 हजार फौजी तैनात रहते हैं। अनुमान है कि सियाचिन की रक्षा पर साल में 1500 करोड़ रुपए खर्च होते हैं।

सेना ने जबरदस्त अभियान चला कर सियाचिन के उत्तरी हिमनद में 200 फुट गहरी बर्फ की दरार में गिरे अपने कुली के शव का पता लगा लिया। सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने कहा कि शव निकालने के लिए सभी संभव उपाय किए जाएंगे।

सेना के सूत्रों ने बताया कि 27 फरवरी को एक कूली दुर्घटनावश बर्फ की दरार में गिर गया था। इसके तुरंत बाद सेना के विशेषज्ञों टीमों ने बचाव अभियान शुरू कर दिया था। बचाव टीमों ने 130 फुट की गहराई तक पहुंचने के लिए बर्फ को काटा जहां उन्हें शव दिखा। कुली को श्रृद्धांजलि देते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि वह ‘हममें से एक था।’

जनरल सुहाग ने यहां कहा कि सियाचीन के निर्मम क्षेत्र में किसी असैन्य कुली को सेना में काम करने के लिए आसाधारण साहस, शारीरिक योग्यता और मानसिक मजबूती की जरूरत होती है। मेरे लिए, वह हममें से एक है। उन्होंने कहा कि सभी मुमकिन उपाय किए जाएंगे और सेना तब तक चैन से नहीं बैठेगी जब तक शव को निकाल नहीं लिया जाता।

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X