ताज़ा खबर
 

यूपीः अवैध शराब पकड़ने को पुलिस का छापा, गैंगस्टर ने मार दिया जवान, सरकार बोली- देख लेंगे

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने लखनऊ में बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कासगंज की घटना का संज्ञान लेते हुए दोषियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र लखनऊ | Updated: February 10, 2021 9:27 AM
murder, jansatta newsसांकेतिक तस्वीर।

उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में मंगलवार देर रात शराब माफियाओं ने पुलिसकर्मियों पर ही हमला कर दिया। लाठी-डंडों से मारे गए दोनों पुलिसकर्मियों में एक कॉन्स्टेबल की की तो जान चली गई, जबकि एक दरोगा गंभीर रूप से घायल भी हुआ। बताया गया है कि पुलिस दल पर यह जानलेवा हमला उस वक्त हुआ जब वे अवैध शराब की फैक्ट्री पर छापा मारने गए थे।

बताया गया है कि छापेमारी के दौरान ही शराब माफिया के इशारे पर उसके लोगों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया और दो पुलिसकर्मियों को बंधक बना लिया और लाठी-डंडों से जबरदस्त पिटाई की। इस दौरान टीम के अन्य साथी जान बचाकर भाग आए और लौटकर साथी दरोगा अशोक और कॉन्स्टेबल देवेंद्र के फंसे होने की सूचना दी।

इसके बाद पुलिस की एक बड़ी टीम को साथियों को गैंगस्टर के चंगुल से छुड़ाने के लिए भेजा गया। इस घटना का एक कथित वीडियो भी सामने आया है। इसमें देखा जा सकता है कि लाठी और राइफल लिए कुछ पुलिसवाले आधी रात में इलाके में छानबीन कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, गांववालों की मदद से आखिरकार पुलिस टीम ने नाग्ला धीमर गांव के खेतों से दोनों पुलिसकर्मियों को ढूंढ निकाला। वीडियो में दिख रहा है कि दोनों घायल पुलिसकर्मियों में से किसी एक का शरीर खून से सना है, जबकि उनके कपड़े भी फटे हैं।

इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराए गए घायल दरोगा अशोक कुमार ने बताया कि वह सिपाही देवेंद्र के साथ मोती नामक अपराधी को वारंट की तामील कराने गए थे। तभी उसके साथियों ने उन्हें पकड़ लिया और बुरी तरह पीटा। इस घटना में देवेंद्र को बुरी तरह चोटें आईं और उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

जिलाधिकारी चंद्रप्रकाश सिंह ने संवाददाताओं को बताया, ‘सिढ़पुरा थाने के दरोगा अशोक कुमार और आरक्षी देवेंद्र नगला धीमर गांव में एक वांछित अपराधी की तलाश में गए थे वहां दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी है, जिसमें हमारे साथी सिपाही देवेंद्र शहीद हो गए।’

यूपी सरकार ने लिया घटना का संज्ञान: यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही मृतक सिपाही के परिजन को 50 लाख रुपए और एक आश्रित को नौकरी देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री लगातार इस घटना की लगातार निगरानी रख रहे हैं। दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इस बीच, राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने लखनऊ में बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कासगंज की घटना का संज्ञान लेते हुए दोषियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार अपराध और अपराधियों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति पर कार्य कर रही है। कानून व्यवस्था के संबंध में किसी भी प्रकार का समझौता न करते हुए संबंधित दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।

Next Stories
1 शादी के बहाने 2 नाबालिगों से बलात्कार, धर्मपरिर्तन की भी कोशिश; ‘लव जिहाद’ कानून के तहत दर्ज हुआ केस
2 भारत में रजिस्टर्ड हैं चीन की 92 कंपनियां, 80 कर रहीं बिजनेस- प्रतिबंध के सवाल पर सरकार ने बताया
3 बिहार में मंत्रिमंडल विस्तारः शाहनवाज ने उर्दू में तो संजय ने मैथिली में ली शपथ; 2 ब्राह्मण, 2 मुसलमान बने मंत्री, जानें क्या रहा जातिगत गणित; विभाग भी बंटे
आज का राशिफल
X