ताज़ा खबर
 

नए साल में बीएचयू मरीजों के लिए निशुल्क रक्त की व्यवस्था करेगा

आइएमएस बीएचयू से सात राज्यों- यूपी, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल के साथ ही नेपाल- के करीब 3400 मरीज हर महीने निशुल्क रक्त का लाभ उठा सकेंगे।

Author वाराणसी | Updated: January 1, 2020 1:19 AM
बीएचयू आइएमएस

नए वर्ष से बीएचयू आइएमएस द्वारा मरीजों को ब्लड बैंक से निशुक्ल ब्लड उपलब्ध कराएगा। यह बात बीएचयू के चिकित्सा अधीक्षक प्रो. एसके माथुर, ट्रामा सेंटर के प्रभारी प्रो. संजीव गुप्ता, ब्लड बैंक के प्रभारी डॉ. संदीप कुमार, सीएमओ डॉ. एसके सिंह ने संयुक्त पत्रकार वार्ता में कही। उन्होंने बताया कि नेशनल हेल्थ मिशन और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सहयोग से एक जनवरी से नई व्यवस्था लागू हो जाएगी।

आइएमएस बीएचयू से सात राज्यों- यूपी, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल के साथ ही नेपाल- के करीब 3400 मरीज हर महीने निशुल्क रक्त का लाभ उठा सकेंगे। केंद्र सरकार की पहल पर यह कदम उठाया गया है। उन्होंने बताया कि इससे हर महीने करीब 22 लाख रुपए खर्च आएगा। उन्होंने कहा कि अब मरीजों से रक्त, फ्रेज, फ्रोजेन प्लाज्मा और रैंडम डोनर प्लेटलेट्स के लिए प्रोसेसिंग फीस नहीं ली जाएगी। इससे पहले हर साल करीब 5,500 यूनिट ब्लड बिना चार्ज के थैलेसीमिया, कैदी और गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले मरीजों को दिया जाता था। उन्होंने बताया कि मरीजों को ब्लड के लिए 850 और प्लेटलेट्स के लिए 400 रुपए देने पड़ते थे। अस्पताल के अधीक्षक प्रो. एसके माथुर ने बताया कि 430 बेड वाले सुपर स्पेशियलिटी सेंटर का निर्माण पूरा हो चुका है। इसका उद्याटन प्रधानमंत्री के हाथों होना है।

उन्होंने बताया कि 11 से 20 नए वेंटीलेटर भी जल्द ही अस्पताल में आएंगे। आइसीयू में बिस्तर न मिलने का संकट अब दूर होगा। मेडिसिन, बाल रोग, व स्त्री रोग सहित अन्य विभागों में इस नए साल में वेंटीलेटर की कमी दूर हो जाएगी। बीएचयू में एम्स जैसी सुविधा को लेकर बनी डीपीआर में एक ही छत के नीचे सभी मरीजों की जांच के लिए एक जांच संकुल की स्वीकृति के लिए प्रस्ताव तैयार किए गए हैं। ब्लड बैंक के सीएमओ ने डॉ. एसके सिंह ने बताया कि हर साल 27 हजार यूनिट रक्त की जरूरत पूरी हो सके इसके लिए अधिक से अधिक लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए आगे आने की जरूरत है। अवकाश के दिन भी ब्लड बैंक खुला रहेगा।
—-
कोहरे और ठंड से जनजीवन अस्तव्यस्त : 57 साल के बाद वाराणसी क्षेत्र में सबसे ज्यादा ठंड मंगलवार की रात रही जबकि पारा 0.8 तक लुढ़क गया। काशी क्षेत्र में पड़ने वाले जिले सोनभद्र में 0.8 तथा वाराणसी में 2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम तापमान 9.0 डिग्री सेल्सियस रहा। एक सप्ताह तक सूरज नहीं दिखा। पछुआ हवा चलने से लोग घर में ही ठिठुरते रहे। मंगलवार की भोर में सारनाथ, पड़ाव, बाबतपुर इलाके में हल्की बूदाबादी हुई। भीषण हाड़ कंपा देने वाली ठंड से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। सड़कों पर सन्नाटा जैसे हालात रहे। ठंड से वाराणसी में सात लोगों की मौत हो गई। सेवापुरी, जंसा थाना क्षेत्र के चौखंडी राजभर बस्ती में रामसेवक (56) की सोमवार की रात मौत हो गई। लोहता के अलाउद्दीनपुर गांव में ठंड लगने से राजा पटेल (70) धनशेरा देवी (65), बासमती (65) और चमेली (65) की मौत हो गई। यह सब मजदूरी करके जीविका चलाने वाले लोग थे जबकि चिरईगांव निवासी श्याम नारायण राजभर 62, रोहनियां निवासी शंकर पटेल खेत में सिंचाई करते समय मंगलवार की भोर में ठंड लगने से मौत हो गयी।

बीएचयू मौसम विभाग के प्रो. एसएन पांडेय ने मंगलवार को बताया कि जाड़े से मकर संक्रान्ति से पहले कोई राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। काशी क्षेत्र के सोनभद्र में भीषण ठंड से सबसे ज्यादा खराब स्थिति रही। वहां पारा 0.8 डिग्री दर्ज किया गया। प्रशासन की ओर से भीषण हाड़ कंपाने वाली ठंड के चलते जगह-जगह निराश्रित लोगों के परिवारों को कंबल बांटा जा रहा है तथा हर बस्ती व चौराहे पर अलाव जलाए जा रहे हैं। इससे लोगों को काफी राहत महसूस की। घने कोहरे की वजह से कई ट्रेनों की रफ्तार थम गयी। कैन्ट स्टेशन से होकर जाने वाली 11 ट्रेनें छह से 12 घंटे देरी से चल रही है तथा सात विमान कोहरे के कारण नहीं उड़ सके।
——
पूर्व बीडीओ गिरफ्तार : बलिया जिले के खाद्यान घोटाले के मख्य आरोपी वीडीओ अखिलेश कुमार पांडेय को पुलिस ने सोमवार की सांयकाल गिरफ्तार कर लिया। आर्थिक अपराध अनुसंधान संगठन के एसपी ने मंगलवार को बताया कि पांडे के खिलाफ बलिया जिले की सुखपुरा थाने में सन 2006 में मुकदमा दर्ज किया गया था। अखिलेश 2003 में जिला सेवायोजन अधिकारी के साथ ही हनुमानगंज के बीडीओ के चार्ज पर भी थे। हनुमानगंज ब्लाक के विभिन्न गांव में 2002 से 2005 के बीच संपूर्ण ग्रामीण योजना के तहत विकास कार्य कराए गए थे। निर्माण में मानकों का उलंघन कर 14 लाख 50 हजार 690 रुपए का खाद्यान और 15 लाख 80 हजार 660 का भुगतान कागजों में फर्जी तरीके से कर दिया गया। एसपी सत्येंद्र कुमार ने बताया कि पांडे को इंस्पेक्टर सुनील कुमार वर्मा के नेतृत्व में हेड का. संजय सिंह, विनीत पांडेय, शशिकांत सिंह ने घेराबंदी कर कचहरी के पास से गिरफ्तार किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सामुदाय‍िक पुल‍िस‍िंंग रही साल 2019 की बड़ी उपलब्‍ध‍ि- SSP ने द‍िया भागलपुर पुल‍िस का र‍िपोर्ट कार्ड
ये पढ़ा क्या?
X