ताज़ा खबर
 

महाराष्‍ट्र में बदमाशों के हौसले बुलंद? गवर्नर के घर पहुंच गया डकैती करने

उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल राम नाइक के मुंबई स्थित घर में डाका डालने की कोशिश की गई। मुंबई पुलिस ने डकैत गोरा सिंह राजपूत को मौके पर से ही गिरफ्तार कर लिया। राज्‍यपाल बनने के बाद से राम नाइक का ज्‍यादा वक्‍त उत्‍तर प्रदेश में ही बीतता है।

यूपी गवर्नर राम नाइक

महाराष्‍ट्र में अपराधियों के हौसले कुछ ज्‍यादा ही बुलंद है। स्‍थानीय प्रशासन की लापरवाही का ही नतीजा है कि उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल राम नाइक के गोरेगांव ईस्‍ट में स्थित घर में डाका डालने की नापाक की कोशिश की गई। पुलिस ने डकैती का प्रयास करने वाले गोरा सिंह राजपूत (35) को गुरुवार (29 मार्च) रात को गिरफ्तार कर लिया था। उत्‍तर प्रदेश का राज्‍यपाल बनने के बाद राम नाइक खुद यहां कम ही रहते हैं। लोगों ने इस घटना के सामने आने के बाद तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दी हैं। एसके. मिश्रा ने ट्वीट किया, ‘राज्‍यपाल के घर में डकैती! हे भगवान! तब देश में कानून एवं व्‍यवस्‍था की क्‍या स्थिति होगी?’ अंकित ने लिखा, ‘ये कैसा राजपूत है।’ उदय कुमार ने ट्वीट किया, ‘रज्‍यपाल राम नाइक बहुत ही साधारण इंसान हैं। उनके घर में भी सामान्‍य चीजें ही होंगी, लेकिन डकैत गोरा सिंह के पास काला दिमाग है।’ एक अन्‍य व्‍यक्ति ने लिखा, ‘करणी सेना कहां है।’ बता दें कि गोरेगांव ईस्‍ट मुंबई के पॉश और अतिसुरक्षित इलाकों में से एक है। इसलिए इसे वीआईपी इलाका भी कहा जाता है।

चार वर्ष से हैं उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल: भाजपा के वरिष्‍ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राम नाइक पिछले चार वर्षों से उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल हैं। व्‍यस्‍तता के कारण वह मुंबई कभी-कभार ही आते हैं। उन्‍होंने राजनीतिक जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। इनमें वर्ष 2004 के आम चुनावों में बॉलीवुड अभिनेता गोविंदा से मिली अप्रत्‍याशित हार भी शामिल है। नाइक मुंबई नॉर्थ से भाजपा के उम्‍मीदवार थे। वह यहां से लगातार चुनाव जीतते आ रहे थे। कांग्रेस ने उस साल गोविंदा को अपना प्रत्‍याशी बनाया था। बड़े राजनीतिक उलट-फेर के तहत राम नाइक को गोविंदा ने हरा दिया था। दो साल पहले ‘चरैवेति’ नाम से उनका संस्‍मरण प्रकाशित हुआ था। इसमें उन्‍होंने गोविंदा पर सनसनीखेज आरोप लगाया था। राम नाइक ने किताब में लिखा कि गोविंदा की भगोड़े अंडरवर्ल्‍ड डॉन दाऊद इब्राहिम और बिल्‍डर हितेन ठाकुर से दोस्‍ती थी। अभिनेता ने इसका फायदा उठाते हुए मतदाताओं में खौफ पैदा कर दिया था। राम नाइक ने उन पलों को याद करते हुए लिखा कि तीन बार सांसद रहने के दौरान उन्‍होंने जनता की भलाई में कई काम किए थे। ऐसे में चुनाव हारने पर उन्‍हें सहसा विश्‍वास ही नहीं हुआ था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App