ताज़ा खबर
 

kerala: सरकार ने लोगों की मदद से बनाया एंबुलेंस के लिए ग्रीन कॉरिडोर, फेसबुक से सीएम ने की सहयोग की अपील

एक बच्चे को बचाने के लिए केरल सरकार ने जनता की मदद से एंबुलेंस के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाकर 440 किलोमीटर के सफर को 5.5 घंटों में पूरा किया।

केरल सरकार और लोगों ने मिलकर एंबुलेंस के लिए बनाया ग्रीन कॉरिडोर फोटो सोर्स-इंडियन एक्सप्रेस

केरल सरकार और लोगों ने मिलकर एंबुलेंस के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाकर हृदय रोग से पीड़ित 15 दिन के नवजात को कोच्चि के अस्पताल पहुंचाया। बता दें कि 400 किलोमीटर की यह यात्रा महज 5.5 घंटे में पूरी कर ली गई। उत्तरी कासरगोड जिले में जन्मे इस बच्चे को सांस की समस्या होने पर मैंगलुरु के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करवाया गया। इसके बाद लीवर और किडनी में इंफेक्शन के चलते बच्चे को निमोनिया हो गया। इस कारण बच्चे के माता-पिता ने उसे तिरुवनंतपुरम ले जाने का फैसला किया क्योंकि वहां उन्हें अपने बच्चे की देखभाल के लिए सस्ती और बेहतर सुविधाएं मिल रही थी।

सीएम ने भी की अपीलः बताया जा रहा है कि केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन की मदद के बाद ग्रीन कॉरिडोर से बच्चे को अस्पताल पहुंचाया गया। बता दें कि पिनराई ने खुद फेसबुक के जरिए लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे सड़कों पर भीड़ जमा करने से बचें ताकि एंबुलेंस आसानी से रास्ते से गुजर सके। यात्रा के दौरान स्वास्थ्य प्रशासन ने नवजात बच्चे की सेहत को देखते हुए बच्चे के माता-पिता को कोच्चि के एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज कराने की सलाह दी जिससे यात्रा का समय कम हो सके। यही नहीं सरकार ने बच्चे के इलाज का खर्च हृदयम प्रोग्राम के तहत उठाने का फैसला किया है। यह फंड पब्लिक – प्राइवेट नेटवर्क के अस्पतालों द्वारा दिया जाता है। स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने भी बच्चे के माता- पिता से भी बात की और उन्हें अपने बच्चे का इलाज कोच्चि के अस्पताल में कराने के लिए कहा। साथ ही उन्हें सरकार द्वारा दिए जा रहे प्रस्ताव को मानने के लिए भी राजी किया।
National Hindi News, 17 April 2019 LIVE Updates: दिन भर की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

साझेदारी से बना ग्रीन कॉरिडोरः एंबुलेंस के लिए ग्रीन कॉरिडोर पुलिस अफसरों, एंबुलेंस ड्राइवर और चाइल्ड सपोर्ट टीम के वॉलिंटियर्स की बेहतरीन साझेदारी के साथ बनाया जा सका। वॉलिंटियर्स यात्रा के दौरान पल-पल की जानकारी देते रहे। बता दें कि 400 किलोमीटर की यात्रा में एंबुलेंस को केवल ईंधन भराने के लिए इडप्पल में रोका गया।

 

बच्चे की हालत गंभीरः नवजात बच्चे की हालत गंभीर बताई जा रही है और उसे कोच्चि के अमृता इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस में भर्ती कराया गया है। अभी बच्चे को अगले दो दिनों के लिए ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App