ताज़ा खबर
 

कर्नाटक की सड़कों पर राहुल गांधी ने दिखाई सादगी और मानवीयता, सुरक्षाकर्मियों ने रोका एम्बुलेंस तो दिलवाया रास्ता

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जन आशीर्वाद यात्रा के तहत कलबुर्गी से गुजर रहे थे। कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार को लेकर वह इन दिनों राज्य के विभिन्न इलाकों का दौरा कर रहे हैं।

गुलबर्गा में जनसभा को संबोधित करते राहुल गांधी। (फोटो सोर्स: पीटीआई)

कर्नाटक में वीवीआईपी कल्चर का एक और नमूना सामने आया है। गनीमत रही कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसी भी तरह की अप्रिय घटना होने से पहले ही हस्तक्षेप कर दिया। कांग्रेस प्रमुख विधानसभा चुनाव प्रचार के तहत इन दिनों कर्नाटक की यात्रा पर हैं। कलबुर्गी से उनका काफिला गुजर रहा था, जिससे पहले क्षेत्र की सुरक्षा-व्यवस्था बेहद सख्त कर दी गई थी। इस दौरान एक एम्बुलेंस भी आ गया था। पुलिसकर्मियों ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उसे रोक दिया। इस बीच, राहुल गांधी की नजर एम्बुलेंस पर चली गई, जिसे पुलिसकर्मियों ने रोक दिया था। कांग्रेस प्रमुख ने सादगी और मानवीयता का परिचय देते हुए सुरक्षाकर्मियों को इशारे से एम्बुलेंस को जाने देने को कहा। इसके बाद एम्बुलेंस को जाने दिया गया था। आमतौर पर वीवीआईपी के काफिला से पहले संबंधित रूट पर वाहनों की आवाजाही रोक दी जाती है। इससे आमलोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसको लेकर पूर्व में भी कई बार सवाल उठ चुके हैं, इसके बावजूद यह प्रक्रिया जारी है।

कर्नाटक में विधानसभा चुनावों को लेकर दिनों राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस और विपक्षी पार्टी भाजपा के लिए अखाड़ा बना हुआ है। कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव प्रचार के सिलसिले में कर्नाटक की यात्रा पर हैं। लोगों से सीधे जुड़ने के लिए कांग्रेस ने ‘जन आशीर्वाद’ बस यात्रा निकाली है। इसके तहत राज्य के कोने-कोने में जाकर लोगों से सीधा संवाद करने की योजना बनाई गई है। राहुल गांधी बस के जरिये ही कलबुर्गी से गुजर रहे थे। राहुल चुनाव प्रचार अभियान के पहले चरण के लिए कर्नाटक के कई हिस्सों में जनसभा को संबोधित कर रहे हैं। कर्नाटक की मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा पहले से ही परिवर्तन यात्रा निकाल रही है। इसके तहत पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कर्नाटक के कई हिस्सों में रैली को संबोधित कर चुके हैं। उन्होंने अपनी जनसभाओं में सीएम सिद्धारमैया पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे। इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कर्नाटक का दौरा किया था। उनके दौरे के बाद कर्नाटक में हिंदुत्व को लेकर बहस गरमा गई थी। कुछ दिनों पहले हुए सर्वेक्षण में कर्नाटक में मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की पहले से भी ज्यादा सीटों के साथ सत्ता में वापसी के संकेत मिले हैं।

Next Stories
1 कांग्रेस नेता की मांग- पाकिस्तान की तारीफ करने वाले मणिशंकर अय्यर को बर्खास्‍त करें राहुल गांधी
2 यूपी: घर में सो रही नाबालिग लड़की को पहले किया अगवा फिर खेत में ले जाकर गैंगरेप
3 स्कूल में नहीं था टॉयलेट, बच्‍ची ने प्रिंसिपल को दी अर्जी- काट दीजिए मेरा नाम, नहीं पढ़ूंगी
ये  पढ़ा क्या?
X