ताज़ा खबर
 

इंदौर में अजीब ‘स्वच्छता अभियान’, ठंड में शहर के बाहर सड़क किनारे फेंके जा रहे अनाथ बुजुर्ग, पकड़े गए

कांग्रेस ने घटना पर तंज कसते हुए इसकी तुलना भाजपा में वरिष्ठ नेताओं- लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को किनारे लगाए जाने तक से कर दी।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र इंदौर | Updated: January 30, 2021 12:50 PM
मध्य प्रदेश के इंदौर से सामने आया है वीडियो। (फोटो- वीडियोग्रैब)

भारत में पिछले चार सालों से लगातार सबसे स्वच्छ शहर का दर्जा प्राप्त कर रहे इंदौर में नगरपालिका के कर्मी अनाथ बुजुर्गों को ही शहर के बाहर फेंक कर आ रहे हैं। भयंकर सर्दी के बीच बुजुर्गों को इंदौर के हाईवे की सड़क पर ही रखा जा रहा है, जहां वे अकेले ही ठिठुरने के लिए मजबूर हैं। यह पूरी घटना हाल ही में एक वीडियो के जरिए सामने आई है। हालांकि, मामले के फैलने के बाद प्रशासन को तुरंत सभी बुजुर्गों को वापस लाना पड़ा है।

माना जा रहा है कि सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हो रहा है, उसे इंदौर के बाहर क्षिप्रा इलाके में रहने वाले लोगों ने ही शूट किया है। यहां के लोगों ने ही नगरपालिका टीमों के इस कदम का विरोध भी किया। वीडियो में दिख रहा है कि एक म्यूनिसिपल टीम का ट्रक कई बेघरों को हाईवे के किनारे ही उतार देता है। इस वीडियो के सामने आने के बाद नगरपालिका कर्मियों को बेघर बुजुर्गों को वापस लाना पड़ा।

एक वीडियो क्लिप में गंदे कपड़ों में बूढ़ी महिला भी दिखाई दे रही है। बुजुर्ग को सीधे बैठने तक में मुश्किल हो रही है। हालांकि, गांव के लोग महिला को संभालते हुए नगरपालिका कर्मियों से उन्हें वापस ले जाने की बहस करते देखे जा सकते हैं। एनडीटीवी के पत्रकार अनुराग द्वारी ने यह वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर भी पोस्ट किए हैं। एक वीडियो में तो एक व्यक्ति यह भी बताता दिख रहा है कि कैसे नगरपालिका की टीम लोगों को ट्रक में भरकर लाई और उन्हें सड़क के किनारे ही छोड़ दिया।

एक और वीडियो में दिख रहा है कि नगरपालिका का वही ट्रक गांववालों के विरोध प्रदर्शन के बाद बुजुर्गों को वापस ले जाने के लिए भी आया है। इंदौर म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन के एडिशनल कमिश्नर अभय राजनगांवकर ने दावा किया कि नगरपालिका के कर्मी अनाथ बुजुर्गों को नाइट शेल्टर ले जा रहे थे और उन्हें कहीं छोड़ के नहीं जा रहे थे।

शिवराज सिंह चौहान ने लिया ऐक्शन: इन वीडियो के सामने आने के बाद भाजपा डैमेज कंट्रोल में जुट गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो में दिख रहे लोगों को सस्पेंड कर दिया। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी को बुजुर्गों का ख्याल रखने के निर्देश दे दिए गए हैं। इसके अलावा अनाथ बुजुर्गों से अमानवीय बर्ताव के लिए डिप्टी कमिश्नर समेत दो कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है।

कांग्रेस ने जमकर साधा निशाना: हालांकि, इस मामले पर विपक्षी कांग्रेस ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा है। कांग्रेस ने घटना पर तंज कसते हुए इसकी तुलना भाजपा में वरिष्ठ नेताओं- लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को किनारे लगाए जाने तक से कर दी। बता दें कि आडवाणी और जोशी इस वक्त भाजपा के मार्गदर्शक मंडल का हिस्सा हैं। पर वे सक्रिय राजनीति का हिस्सा नहीं हैं।

Next Stories
1 बंद पड़े गैस टैंक को साफ करते वक्त धमाका, चादर में सिमट गया मजदूर का शव, 9 झुलसे
2 सिंघु बॉर्डर पर वही हुआ जो पाकिस्तान चाहता है, बोले कैप्टन अमरिंदर, कहा- केंद्र जांच कराए
3 कोरोनाः यूपी में टीका लगवाने पर चतुर्थ श्रेणीकर्मी की मौत, स्वास्थ्य विभाग बोला- ह्रदय रोग से गई जान
ये पढ़ा क्या?
X