ताज़ा खबर
 

Gujarat Elections 2017: चुनाव सूबे का, जंग में हावी हैं राष्ट्रीय मुद्दे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के गृह प्रदेश गुजरात में हो रहे विधानसभा चुनाव में जंग राष्ट्रीय मुद्दों पर छिड़ी दिख रही है।

Author नई दिल्ली | November 29, 2017 2:45 AM
गुजरात में पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के गृह प्रदेश गुजरात में हो रहे विधानसभा चुनाव में जंग राष्ट्रीय मुद्दों पर छिड़ी दिख रही है। बीते दो दशक में यह पहला चुनाव होगा, जिसमें मोदी खुद मैदान में नहीं हैं, लेकिन राजनीतिक समीकरण के केंद्र में वे ही बने हुए हैं। लोकसभा चुनाव के साढ़े तीन साल के भीतर ही गुजरात के राजनीतिक समीकरण काफी बदल गए हैं। विधानसभा के चुनावी महासमर में भाजपा को कांग्रेस से चुनौती मिल रही है। दोनों ही पार्टियों ने अबकी इस राज्य में बड़ा दांव लगा रखा है। कांग्रेस ने 1985 में आखिरी बार विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की थी। तब कांग्रेस को विधानसभा की 182 में से 149 सीटें मिली थीं। उसके बाद से कांग्रेस को गुजरात से अच्छी खबर नहीं मिली। लगातार पांच विधानसभा चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के अलावा कोई तीसरा दल दहाई के अंक को पार नहीं कर पाया। राजनीतिक मुकाबला दोनों राष्ट्रीय पार्टियों के बीच ही रहा है। हालांकि, राज्य के राजनीतिक और सामाजिक समीकरणों में बदलाव होते रहे।

इस दफा दोनों ही राजनीतिक पार्टियां मुद्दों और समीकरण को लेकर फूंक-फूंक कर कदम उठा रही हैं। प्रधानमंत्री मोदी के मैदान में उतरने के साथ ही गुजराती अस्मिता का मुद्दा तो उछाला ही गया है हाफिज सईद, सर्जिकल स्ट्राइक और डोकलाम जैसे मुद्दे भी उतर आए हैं। ऐसे में विकास का मुद्दा महज गिनाने भर का साबित हो रहा है। गुजरात मॉडल विपक्षी हमले की जद में है। मैदान में उतरे प्रधानमंत्री के निशाने पर कांग्रेस के नेता राहुल गांधी हैं। हाफिज सईद और डोकलाम के मुद्दे उठाकर उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधा है। लश्कर के सरगना की रिहाई पर कांग्रेस की सियासी चिकोटी प्रधानमंत्री को खासी चुभी है। गुजरात में विकास की गंगा बहा देने का दावा करने वाली भाजपा को हाफिज सईद और डोकलाम का राग क्यों छेड़ना पड़ रहा है? गुजरात का चुनाव क्या डोकलाम, सर्जिकल स्ट्राइक और हाफिज सईद के नाम पर लड़ा जाएगा? क्या विकास पीछे छूट गया और हाफिज सईद आगे आ गया है?

गुजरात में दो चरणों में 9 और 14 दिसंबर को मतदान होना है और मतगणना 18 दिसंबर को होगी। बीते तीन चुनाव जिन नारे जिन मुद्दों पर लड़े गए इस बार के चुनाव में वे अप्रासंगिक हो गए हैं। गोधरा कांड के बाद साल 2002 में हुए चुनाव में दंगे बनाम हिंदुत्व की लहर बड़ा मुद्दा बना था तब मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के विेदशी होने के मुद्दे को उठाया था। अपने पहले चुनाव में मोदी ने ‘जनता से पहले मतदान फिर कन्यादान’, ‘आप एक दिन जागो, मैं पांच साल जागूंगा’ जैसे नारे दिए। इसके साथ ही साथ गुजरात के गौरव के लिए उन्होंने ‘आपणुं गुजरात आगवुं गुजरात’ (अपना गुजरात, आगे गुजरात) जैसा नारा दिया। इस बार भी भाजपा का शुरुआती नारा था- हुं गुजरात छुं, हुं विकास छुं। लेकिन यह नारा अब पर्दे के पीछे चला गया दिख रहा है।

कांग्रेस गुजरात में हुए दंगों के मुद्दों से अब तक आगे नहीं बढ़ पाई। साल 2007 के चुनाव में कांग्रेस ने ‘चक दे गुजरात’ का नारा दिया। मोदी को घेरने के लिए ‘सवा लाख चेकडेम और सुजलाम सुफलाम में भ्रष्टाचार’ के भी आरोप जड़े। लेकिन, मोदी ने ‘जीतेगा गुजरात’ के नारे पर पूरा चुनाव लड़ लिया। मोदी ने ‘वायब्रेंट गुजरात’ निवेशक सम्मेलन में हुए निवेश को भी मुद्दा बनाना शुरू कर दिया था। वर्ष 2012 का चुनाव प्रचार मोदी ने गुजरात के साथ केंद्र सरकार के अन्याय के मुद्दे पर फोकस किया। तब मोदी ने चुनाव को केंद्र बनाम राज्य बना दिया। इस बार कांग्रेस अडाणी और अंबानी सहित मोदी के करीबी उद्योगपतियों को घेरने लगी है। पिछले चुनाव में भाजपा कालेधन के मुद्दे को उठा रही थी। इस बार नोटबंदी से जोड़कर कांग्रेस इसे उठा रही है। अब भाजपा के बारे में पटेलों की धारणा बदली है। अब करीब 30 साल बाद हार्दिक पटेल के नेतृत्व में पटेल समुदाय के आरक्षण की मांग के आंदोलन से जाति समीकरणों ने भाजपा के लिए असहज स्थिति पैदा कर दी है। पटेलों के आरक्षण के सवाल को सही तरह से सुलझा नहीं पाने की वजह से गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप से आंनदी बेन पटेल को इस्तीफा देना पड़ा।
—————-
गुजरात में जाति समीकरण
आबादी: 66056202 (2017)

जाति/ धर्म फीसद आबादी
ब्राह्मण 1.5 995133
वैश्य 1.5 995133
राजपूत 5 3331111
पाटीदार (कडवा, लेउवा) 12 7961038
दलित 7 4343956
आदिवासी 15 9951335
ओबीसी (147 जाति) 40 26536894
मुसलिम 9 5970801
अन्य(अल्पसंख्यक/ जैन, पारसी, ईसाई) 3 1990267
अन्य(सोनी, लोहाना आदि) 6 3980534
——————————————————————————————————————-
स्रोत : राज्य चुनाव कार्यालय, गुजरात
———————————————————————-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App