In Gujarat a Muslim man took the responsibility to renovate 500 year old Hanuman temple - मोइन मेमन ने कभी नहीं झेला दंगा, गुजरात में कर रहा 500 साल पुराने मंदिर का जीर्णोद्धार - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पुजारी के साथ परिवार की तरह रहा मुस्लिम शख्स, यादें संजोने के लिए करा रहा मंदिर का जीर्णोद्धार

ऐतिहासिक हनुमान मंदिर पुराने अहमदाबाद के मिर्जापुर इलाके में स्थित है। मोइन मेमन का पूरा बचपन मंदिर के पास खेलते हुए बीता है। वह मंदिर के महाराज (पुजारी) के साथ एक परिवार की तरह रहे हैं।

Author नई दिल्ली | February 8, 2018 2:43 PM
हनुमान जी की सांकेतिक फोटो

गुजरात में एक मुस्लिम समुदाय का एक व्यक्ति धार्मिक समभाव की मिसाल पेश कर रहा है। अहमदाबाद निवासी मोइन मेमन तकरीबन 500 साल पुराने हनुमान मंदिर का जीर्णोद्धार करा रहे हैं। पुराना होने के कारण मंदिर की स्थिति बेहद खराब हो गई थी, जिसका नए सिरे से मरम्मत कराना अनिवार्य हो गया था। पुराने अहमदाबाद के मिर्जापुर इलाके में स्थित इस ऐतिहासिक मंदिर के नीवीनीकरण का जिम्मा मोइन ने उठाया। वह अपनी मौजूदगी में मंदिर का काम कराते हैं, ताकि किसी तरह की कमी न रह जाए। सोशल मीडिया पर इसकी तस्वीरें आने के बाद उनका प्रयास सुर्खियों में आया। मोइन बताते हैं कि उनका पूरा बचपन यहीं पर खेलते हुए गुजरा है और मंदिर के महाराज के साथ वह परिवार की तरह रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘हमारे क्षेत्र में मुस्लिम समुदाय के काफी लोग रहते हैं। हमारे बीच जाति अैर धर्म को लेकर कभी कुछ नहीं हुआ है। न हमने कभी हिंदू-मुसलमान की बात छेड़ी और न उन्होंने (हिंदू समुदाय) ऐसा कुछ कहा है। हमलोग साथ में भाईचारे के साथ रहे हैं।’

मंदिर का जीर्णोद्धार कराने के सवाल पर मोइन ने कहा, ‘मेरा पूरा बचपन यहीं बीता है। मंदिर के महाराज (पुजारी) के साथ मैं एक परिवार की तरह रहा हूं। मैंने महाराज से कहा था कि मंदिर बहुत पुराना हो गया है और मैं अपने स्तर से इसा जीर्णोद्धार कराता हूं।’ दरअसल, मोइन की चाहत अपने बचपन की यादों को सुरक्षित रखना और मंदिर को उसके पुराने स्वरूप में लाना था। इसी भावना के साथ उन्होंने हनुमान मंदिर के मरम्मत कराने का जिम्म लिया था। मोइन ने धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों की आलोचना करते हुए कहा कि वे लोग जब तक हिंदू-मुस्लिम नहीं कराएंगे उनकी रोटी नहीं सिकेंगी, लेकिन दोनों समुदाय एक हो जाए तो राजनीति करने वाले भी कुछ नहीं कर पाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App