ताज़ा खबर
 

बिहारः एक दिन में बना 6.62 लाख लोगों को टीका देने का रिकॉर्ड, पर विभाग बोला- 1.23 लाख का ही हुआ वैक्सीनेशन

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने सबसे ज्यादा टीकाकरण का ऐलान करते हुए अपनी सरकार को बधाई दे दी, लेकिन उनके और विभाग के आंकड़ों में करीब पांच गुना का अंतर था।

बिहार में अब तक 1.3 करोड़ लोगों को कोरोना की कम से कम एक डोज लग चुकी है। (फोटो- AP)

भारत में कोरोनावायरस से लड़ाई में टीकाकरण की अहम भूमिका मानी जा रही है। लेकिन वैक्सीन की कमी के चलते कई राज्यों में लक्ष्य से काफी कम वैक्सिनेशन हो पाया है। जहां सबसे ज्यादा वैक्सीन लगाने के मामले में महाराष्ट्र, यूपी, राजस्थान और बंगाल का नाम है, वहीं बिहार, कर्नाटक समेत कई राज्य टीके की 1 करोड़ डोज लगाने का आंकड़ा पार कर चुके हैं। हालांकि, इस बीच प्रतिदिन टीकाकरण के मामले में बिहार के स्वास्थ्य मंत्री ने नया रिकॉर्ड बनाने की बात कह कर असमंजस की स्थिति पैदा कर दी है। दरअसल, उनकी तरफ से दिए आंकड़े उनके विभाग के आंकड़ों से ही मेल नहीं खाते।

क्या है पूरा मामला?: बिहार के स्वास्थ्य मंत्री ने 17 जून को ट्वीट कर कहा था कि एक दिन में देश में सबसे ज्यादा 6.62 लाख टीके लगाने का रिकॉर्ड उनके राज्य में बन गया है। हालांकि, उन्हीं के विभाग की तरफ से जो प्रेस रिलीज जारी हुई, उसके मुताबिक सिर्फ 1 लाख 23 हजार 745 लोगों को ही वैक्सीन की डोज दी जा सकी। यानी स्वास्थ्य मंत्री और उनके विभाग के आंकड़ों में करीब पांच गुना का अंतर था।

स्वास्थ्य मंत्री का क्या दावा?: चौंकाने वाली बात यह है कि विभाग की इस प्रेस रिलीज की जानकारी लिए बिना ही स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने देश में रिकॉर्डतोड़ टीकाकरण करने के लिए अपनी सरकार को बधाई तक दे दी। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि किसी प्रदेश और संबंधित विभाग के लिए यह बड़ी उपलब्धि है। बिहार देश में इकलौता राज्य है, जिसने 24 घंटे के भीतर 6,62,507 लोगों का टीकाकरण किया। सर्वाधिक टीके 18-45 उम्र वालों को दिए गए।

कोरोनाकाल में बिहार में सिर्फ 19 मरीजों का हुआ आयुष्मान भारत योजना में इलाज

मंत्री के मुताबिक, 45 से 59 वर्ष के 76,013 लोगों को वैक्सीन की पहली और 8,734 को दूसरी डोज दी गई। 60 वर्ष से अधिक उम्र के 11,274 को पहली और 2,825 लोगों को दूसरी डोज दी गई। वहीं 18-45 उम्र के 5,51,703 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज और 10,607 को दूसरी डोज दी गई। स्वास्थ्य मंत्री ने बिहार में केंद्र सरकार द्वारा टीके की आपूर्ति बढ़ाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग टीकाकरण की गति को तेजी से कर रहा है।

भारत में क्या है टीकाकरण अभियान का हाल?: बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने ताजा आंकड़ो में बताया कि कहा कि देश में कोविड-19 रोधी टीके की 26.89 करोड़ से अधिक खुराकें दी जा चुकी हैं, जिनमें 18-44 आयु वर्ग के लोगों को दी गई पांच करोड़ से ज्यादा खुराकें शामिल हैं। मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटे में कुल 32 लाख 59 हजार लाभार्थियों को वैक्सीन डोज लगाई गईं।

Next Stories
1 JDU को चाहिए मोदी सरकार में हिस्सेदारी, नीतीश के तीन करीबी नेताओं के केंद्र में मंत्री बनने की चर्चा
2 मदरसा में बम ब्लास्ट, मौलाना की मौत, कहां से आया बम- चल रही जांच
3 बिहार में कोरोना संक्रमित के शव से भी असंवेदनशीलता! JCB से उठाई गई लाश, जलाने के बजाय अस्पताल से दूर ले जा दफना दिया
ये पढ़ा क्या?
X