ताज़ा खबर
 

केंद्र सरकार बदलेगी अंडमान-निकोबार के 3 द्वीपों के नाम, पीएम मोदी के दौरे पर होगा नए नामों का ऐलान

सरकार अंडमान और निकोबार के तीन द्वीपों के नाम बदलने की तैयारी में है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 30 दिसंबर के दौरे पर द्वीपों के नए नाम का ऐलान किये जाने की संभावना है।

अंडमान द्वीप फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

केंद्र सरकार अंडमान और निकोबार के तीन द्वीपों के नाम बदलने की तैयारी में है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 30 दिसंबर के दौरे पर द्वीपों के नए नाम का ऐलान किये जाने की संभावना है। न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार सरकार ने रॉस, नील और हैवलॉक द्वीप का नाम बदलने का फैसला किया गया है। इन द्वीपों को क्रमश: नेताजी सुभाष चंद्र बोस आइलैंड, शहीद द्वीप और स्वराज द्वीप नाम दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 30 दिसंबर को पोर्ट ब्लेयर दौरे पर आ रहे हैं। इस दौरान वे नेताजी सुभाष चंद्र बोस के आजाद हिंद सरकार के गठन की घोषणा के 75 साल पूरा होने पर तिरंगा फहराएंगे। इस मौके पर उनके साथ गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक द्वीपों के नाम बदले जाने की सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं। सरकार ने रॉस, नील और हैवलॉक द्वीप का नाम बदलने का फैसला किया गया है। सरकार ने रॉस द्वीप का नाम नेताजी सुभाष चंद्र बोस आइलैंड, नील द्वीप का नाम शहीद द्वीप और हैवलॉक द्वीप का नाम स्वराज द्वीप रखने का फैसला किया है।

बता दें कि हैवलॉक द्वीप का नाम ब्रिटिश जनरल सर हेनरी हैवलॉक के नाम पर रखा गया है। इस द्वीप के नाम बदलने की मांग मार्च 2017 में भाजपा नेता ने राज्यसभा में की थी। एलए गणेशन का कहना था कि मशहूर पर्यटन स्थल हैवलॉक द्वीप का नाम बदला जाए। उन्होंने कहा था कि 1857 में भारतीय देशभक्तों से लड़ने वाले एक व्यक्ति के नाम पर इस जगह का नामकरण शर्म की बात है।

गौरतलब है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने द्वितीय विश्व युद्ध में जापानियों द्वारा इन द्वीपों पर कब्जा करने के बाद यहां तिरंगा फहराया था। साथ ही उन्होंने अंडमान-निकोबार द्वीप समूह का नाम बदलकर शहीद और स्वराज द्वीप करने का सुझाव भी दिया था। सन 1943 में नेताजी बोस ने यहां आजाद हिंद की अस्थायी सरकार की स्थापना की थी।

Next Stories
1 मध्य प्रदेशः कमल नाथ के 28 विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ, पहली बार MLA बनने वालों को नहीं मिली जगह
2 18 वर्षों से सत्‍ता में है पार्टी, फिर भी CM सांसदों-विधायकों से मांग रहे चंदा
3 अजान की आवाज सुन आदित्‍य ठाकरे ने रुकवा दिया मेयर का भाषण
ये पढ़ा क्या?
X