ताज़ा खबर
 

गुजरात: लाइब्रेरी का फरमान- छोटे कपड़े पहनकर आए तो नहीं मिलेगी एंट्री

अहमदाबाद नगर निगम ने नोटिस जारी करने से इनकार करते हुए मामले की जांच कराने की बात कही है।

Author नई दिल्‍ली | January 5, 2018 1:14 PM
एमजे लाइब्रेरी की ओर से जारी नोटिस के बारे में नगर निगम को भी जानकारी नही है। (प्रतीकात्‍मक फोटो)

गुजरात में एक सरकारी लाइब्रेरी की ओर से अजीबोगरीब फरमान जारी करने का मामला सामने आया है। अहमदाबाद नगर निगम द्वारा संचालित एमजे लाइब्रेरी में छोटे कपड़े पहन कर आने वालों को परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसको लेकर लाइब्रेरी के प्रवेश द्वार पर नोटिस चस्‍पा किया गया है। लाइब्रेरी में परीक्षा की तैयारी करने के लिए बड़ी संख्‍या में छात्रों के आने के अलावा अन्‍य लोग भी आते हैं। इसके अलावा एक और नोटिस लगाया गया है, जिसमें बिना किसी उद्देश्‍य के वाचमैन के काउंटर पर खड़े न होने की हिदायत दी गई है। देश के कई कॉलेजों और यूनिवर्सिटी द्वारा ड्रेस को लेकर फरमान जारी करने के मामले आते रहते हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, निगम संचालित एमजे लाइब्रेरी द्वारा ड्रेस को लेकर हाल में ही नोटिस जारी किया गया है। इसमें लिखा गया है, ‘एमजे लाइब्रेरी आने वाले सभी पाठक ध्‍यान दें कि छोटे कपड़े पहन कर आने पर उन्‍हें लाइब्रेरी में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।’ हालांकि, अचानक से इस तरह का आदेश जारी करने के बारे में नोटिस में जानकारी नहीं दी गई है। इस पर न तो किसी अधिकारी का नाम है और न ही इस पर आधिकारिक मुहर ही है। प्रवेश द्वार पर इसके अलावा एक और नोटिस चस्‍पा किया गया है। इसके अनुसार, यह आदेश लाइब्रेरियन के आदेश से जारी किया गया है। एमजे लाइब्रेरी के लाइब्रेरियन बिपिन मोदी की ओर से भी इसकी पुष्टि नहीं की गई है।

अहमदाबाद नगर निगम के अधिकारियों को भी नए आदेश के बारे में कोई जानकारी नहीं है। निगम के स्‍कूल बोर्ड के अध्‍यक्ष पंकज चौहान ने कहा, ‘नगर निगम की ओर से कोई नोटिस जारी नहीं किया गया है। इस मामले को अभी तक निगम के संज्ञान में भी नहीं लाया गया था। अब इसकी छानबीन की जाएगी।’ वहीं, निगम आयुक्‍त मुकेश कुमार ने भी इसको लेकर अनभिज्ञता जाहिर की है। उन्‍होंने कहा, ‘मैं नहीं समझता कि इस तरह का नोटिस अहमदाबाद नगर निगम की ओर से जारी किया गया होगा। मामले की जांच के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App