scorecardresearch

प्रदर्शन की अहमियत

कांग्रेसी दिग्गजों के सड़क पर बैठने की खबरों के आगे किसी और के कवरेज की संभावना भला क्या!

प्रदर्शन की अहमियत

बड़ी मछली छोटी मछली को खा जाती है। यह बात प्रदर्शनों में भी लागू होती है। बीते दिनों कुछ ऐसा ही होता दिखा राजधानी में। हुआ यूं कि जिस दिन कांग्रेस सड़क पर उतरी उस दिन यहां और भी विभिन्न संगठनों के प्रदर्शन प्रस्तावित थे। जैसे ही कांग्रेस सड़क पर उतरी, सारा मीडिया उधर ही हो लिया, बस क्या था – कई संगठनों ने अपने प्रस्तावित प्रदर्शन स्थगित ही कर दिए। कुछ ने तो अपने प्रदर्शन स्थल ही बदल दिए।

दरअसल, सारा माजरा ‘मीडिया कवरेज’ का जो है! कांग्रेसी दिग्गजों के सड़क पर बैठने की खबरों के आगे किसी और के कवरेज की संभावना भला क्या! किसी ने ठीक ही कहा- जिस प्रकार समुद्र में बड़ी मछली छोटी मछली को खा जाती है, उसी प्रकार बड़ा प्रदर्शन भी छोटे को गुम कर देता है….खासकर मीडिया में।

मंच पर मुलाकात

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में अंदरखाने कुछ न कुछ चलता रहता है लेकिन बात बाहर नहीं आ पाती। कान लगाए बैठे खबरनवीस भी तब मायूस हो जाते हैं जब पूंछ मिलने के बाद भी पूरा मामला नहीं मिल पाता। अभी हाल में दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल का टकराव नई आबकारी नीति को लेकर देखने को मिला। भाजपा ने आम आदमी पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

कहा गया कि भाजपा के सभी विधायकों और सांसदों को एक मंच पर आना है और विरोध जताना है, लेकिन मंच पर आए केवल दो सांसद। बाकी पांच गायब थे। हालांकि आशंका पहले से थी कि सभी एक साथ नहीं आ पाएंगे लेकिन इस चुनौती को पूरी करने की कोशिश की जा रही थी, जिसका शाम होते-होते पटाक्षेप हो गया। हालांकि बाकी पांच माननीय कहां विरोध जता रहे थे, यह पता भी नहीं चल सका।

मामला खाली है

दिल्ली सरकार की नीतियों का विरोध करने में विपक्षी पार्टी भाजपा सबसे आगे है। वह आए दिन कार्यक्रम बनाती है मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचकर प्रदर्शन करने का लेकिन मुख्यमंत्री वहां होते ही नहीं हैं। भाजपा का तर्क होता है कि वे मुख्यमंत्री को सामने बुलाने पर विवश करेंगे लेकिन मुख्यमंत्री अपने पहले से तय या अचानक बने कार्यक्रम के कारण आवास पर नहीं मिलते।

इस बार ऐसा दूसरी बार हुआ जब आबकारी नीति पर प्रदर्शन करने पहुंचे भाजपा नेताओं को मुख्यमंत्री अपने आवास पर नहीं मिले। वह गुजरात में थे। किसी को बेदिल ने कहते सुना, न जानते हुए प्रदर्शन करें तो ठीक, लेकिन जब जानते हैं कि मुख्यमंत्री बाहर हैं तो बेवजह घर के बाहर बैठककर किस पर दबाव बनाने चाह रहे हैं। यह रणनीति है या भूल, कोई बता नहीं पाया।
-बेदिल

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट