ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान महिला आयोग अध्‍यक्ष का कटाक्ष- जो युवा अपनी जींस नहीं संभाल सकता, वह बहनों की रक्षा क्‍या करेगा

राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने नई पीढी के युवाओं पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि जो युवा अपनी लटकती जींस संभाल नहीं सकता, वह अपनी बहन की रक्षा कैसे कर सकता है।

Author जयपुर | March 8, 2018 8:05 AM
राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा

राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने नई पीढी के युवाओं पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि जो युवा अपनी लटकती जींस संभाल नहीं सकता, वह अपनी बहन की रक्षा कैसे कर सकता है। उन्होंने कहा कि जो युवा कमर से नीचे की जींस पहनते हों और जिनकी चौडी छाती नहीं है वह अपनी बहन की रक्षा कैसे कर सकता है। शर्मा अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम को सम्बोधित कर रही थी।

उन्होंने कहा,‘‘ आज हमारी युवा पीढी कहां जा रही है? एक समय था जब हम ऐसे युवा की कल्पना करते थे जिनकी छाती चौडी हो, लेकिन आज अगर आप देखो तो चौडी छाती नजर नहीं आती। आज युवा लटकती जींस पहनते हैं, जो युवा अपनी जींस नहीं संभाल सकता वह अपनी बहनों की रक्षा कैसे करेगा।’ उन्होंने कहा,‘‘ मैं जब आज के लडकों को देखती हूं तो मेरे दिमाग में विचार आता है कि हमारी नई पीढी कहां जा रही है। जीरो फिगर का विचार तो लडकियों में होता है लेकिन लड़कों को क्या हुआ।

HOT DEALS
  • Gionee X1 16GB Gold
    ₹ 8990 MRP ₹ 10349 -13%
    ₹1349 Cashback
  • Lenovo K8 Plus 32 GB (Venom Black)
    ₹ 8199 MRP ₹ 11999 -32%
    ₹410 Cashback

लडके आजकल कानों में बालियां पहन कर लडकियों की तरह दिखाते है।’’ शर्मा ने कहा,‘‘ मैं आलोचना नहीं कर रहीं हूं लेकिन हमें बदलाव की जरूरत है, यह हमारी जिम्मेदारी है, माताओं की जिम्मेदारी है कि वे बच्चों को संस्कारवान बनाएं।’’ उन्होंने कहा कि पुरूष महिलाओं के बिना पंगू है। पुरूष लोग बाहर से कठोर दिखते है, लेकिन अंदर से नरम होते है लेकिन महिलाएं जितनी बाहर से नरम दिखाई देती है, अंदर से उतनी मजबूत होती हैं।

शर्मा ने कहा कि पुरूष और महिलाएं समानांतर होते है और इस प्रणाली के साथ छेडछाड नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आजादी के नाम पर महिलाओं में इतना खुलापन नहीं होना चाहिए कि परिवार और समाज में असंतुलन पैदा हो जाये। उन्होंने कहा कि महिलाओं को कमजोर महसूस नहीं करना चाहिए और उन्हें हर दिन, हर घंटे महिला दिवस मनाना चाहिए। इस अवसर पर महिला सशक्तीकरण की दिशा में काम करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App