ताज़ा खबर
 

अगर टीएमसी कार्यकर्ता हमें छुएं तो उनकी उंगलियां तोड़ दो : पश्चिम बंगाल भाजपा नेता

भाजपा नेता ने एक विरोध रैली में कहा कि भाजपा कार्यकर्ता और नेता न कायर हैं और न ही हमने चूड़ियां पहनी हुई हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: October 7, 2017 3:49 PM
Himachal elections, BJP list, prem kumar dhumal, Himachal Pradesh Assembly Election 2017, bjp announces name of all candidates, BJP ने जारी की सूची, Hindi news, Latest hindi news, Jansattaतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

पश्चिम बंगाल के आसनसोल के एक स्थानीय भाजपा नेता आज तब विवादों से घिर गए जब उन्होंने कथित रूप से अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि राज्य के किसी भी हिस्से में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कार्यकर्ता अगर भाजपा कार्यकर्ताओं को छूने की हिम्मत करें तो उनकी उंगलियां तोड़ दो। तापस रे ने एक विरोध रैली में कहा, ‘‘भाजपा कार्यकर्ता और नेता न कायर हैं और न ही हमने चूड़ियां पहनी हुई हैं। अगर टीएमसी कार्यकर्ता या टीएमसी गुंडे भाजपा कार्यकर्ताओं को छूने की कोशिश करते हैं, तो हम उस व्यक्ति की उंगुलियों को तोड़ देंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘अगर कोई भाजपा कैडर को उकसाने की कोशिश करता है तो हम खाली नहीं बैठेंगे।’’ इस पर वरिष्ठ टीएमसी नेता गौतम देब ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भाजपा हिंसा और घृणा की संस्कृति को बंगाल में लाने की कोशिश कर रही है।
उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह के बयान हिंसा को भड़काने और राज्य में शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने के लिए दिए जा रहे हैं।’’ दार्जिलिंग में गुरुवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के साथ धक्का-मुक्की करने वालों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग करने के लिए पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में शुक्रवार को दिन में रैलियां निकाली गईं।

वहीं दूसरी तरफ, लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने जाने की चर्चाओं को तृणमूल कांग्रेस ने शुक्रवार को देश के मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकाने वाला बताया। तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने जैसे मुद्दे नोटबंदी और जीएसटी के बाद की स्थिति से ध्यान भटकाने का प्रयास हैं। राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस के संसदीय दल के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने पीटीआई से कहा कि नोटबंदी घोटाले और जल्दबाजी में जीएसटी लागू करने के बाद अर्थव्यवस्था में निरंतर गिरावट हो रही है।

इस समय एकसाथ चुनाव कराने जैसे मुद्दों पर चर्चा ध्यान भटकाने का प्रयास है। गौरतलब है कि चुनाव आयुक्त ओ पी रावत ने इस सप्ताह कहा था कि आयोग लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के एकसाथ चुनाव कराने के लिए सितंबर 2018 तक ‘‘साजो-सामान से लैस’’ होगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 केरल में टूटेंगे सदियों पुराने जातिगत बंधन, 6 दलित बनेंगे पुजारी
2 निगम उपचुनाव के नतीजे से भाजपा को झटका
3 मन को छूते हैं लालन शाह के गीत: मीरा कुमार
ये पढ़ा क्या?
X