ताज़ा खबर
 

कुलभूषण जाधव मामला: ICJ के फैसले के बाद पाकिस्तान के पास बचें हैं ये विकल्प

हरीश साल्वे के अनुसार, पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव मामले में आईसीजे के निर्देशों का पालन करना होगा। यदि पाकिस्तान ऐसा नहीं करता है तो भारत इस मामले को लेकर यूएन भी जा सकता है।

Author नई दिल्ली | July 18, 2019 11:34 AM
कुलभूषण जाधव (फाइल फोटो)

अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय ने बुधवार को कुलभूषण जाधव मामले में अहम फैसला देते हुए उनकी फांसी पर रोक लगा दी है और इस पर पुनर्विचार करने को कहा है। कोर्ट ने मामले में विएना संधि के अनुसार, सुनवाई करने करने के निर्देश दिए हैं। अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय के जजों ने 15-1 के स्पष्ट बहुमत से भारत के पक्ष को माना और कहा कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव मामले में विएना संधि के कानून का उल्लंघन किया है। कोर्ट ने आगे की कार्रवाई के लिए जाधव को लीगल काउंसलर देने के निर्देश दिए।

कोर्ट में भारत का पक्ष रख रहे वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने लंदन में मीडिया से बात करते हुए कहा कि यदि पाकिस्तान अभी भी सैन्य अदालत में मामले की सुनवाई करता है तो उसे कुलभूषण जाधव को कानूनी सलाहकार मुहैया कराना होगा। भारत ने सुनवाई के दौरान आरोप लगाया कि पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने मामले की सुनवाई के दौरान न्यूनतम कानूनी शर्तों का भी पालन नहीं किया। भारत ने कुलभूषण जाधव को फांसी देने के लिए पाकिस्तान की सैन्य अदालत के फैसले को अन्तरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन बताया और इसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की। हालांकि आईसीजे ने ऐसा करने से इंकार कर दिया।

हरीश साल्वे के अनुसार, पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव मामले में आईसीजे के निर्देशों का पालन करना होगा। यदि पाकिस्तान ऐसा नहीं करता है तो भारत इस मामले को लेकर यूएन भी जा सकता है। भारत ने आईसीजे में कुलभूषण जाधव की रिहाई और उसे वापस भारत भेजे जाने की भी दलील दी, लेकिन आईसीजे ने इसे ठुकरा दिया। कोर्ट ने माना कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव की गिरफ्तारी के बारे में भारत को जानकारी नहीं देकर अन्तरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन किया है।

बता दें कि पाकिस्तान का दावा है कि उसने कुलभूषण जाधव को साल 2016 में पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान प्रांत से गिरफ्तार किया। पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को भारत का जासूस मानता है। वहीं भारत का कहना है कि कुलभूषण जाधव अपने कारोबार के सिलसिले में ईरान गए थे और वहीं से उन्हें गिरफ्तार कर पाकिस्तान लाया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App