ताज़ा खबर
 

IAF Strike: सेना ने शेयर की दिनकर की ‘शक्ति और क्षमा’ कविता, कहा- हम हमेशा तैयार

Indian Air Force Aerial Strike: बालाकोट में एयर स्ट्राइक के बाद भारतीय सेना ने रामधारी सिंह दिनकरी की एक ओजस्वी कविता से खास संदेश दिया है।

Indian Air Force Aerial Strike: सेना ने कार्रवाई के बाद शेयर की कविता (प्रतीकात्मक तस्वीर- इंडियन एक्सप्रेस)

Indian Air Force Aerial Strike: पाकिस्तान की पनाह में पनप रहे आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने के बाद सेना की तरफ से ट्विटर पर एक कविता शेयर की गई है। राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की इस कविता में सेना ने भारत के मन की बात कह दी है। यह कविता रक्षा मंत्रालय के अतिरिक्त जनसूचना महानिदेशालय के ट्विटर हैंडल से साझा की गई है। उल्लेखनीय है कि मंगलवार को भारतीय वायुसेना ने करीब साढ़े तीन बजे बालाकोट स्थित आतंकी ठिकानों को नेस्तनाबूद कर दिया है।

कविता के माध्यम से यूं दिया पाकिस्तान को संदेशः ओजस्वी शब्दों के लिए विख्यात दिनकर की यह कविता ‘शक्ति और क्षमा’ शीर्षक के साथ लिखी गई थी। सेना ने इन्हीं शब्दों में अपना संदेश दिया है।

‘क्षमाशील हो रिपु-समक्ष
तुम हुए विनीत जितना ही,
दुष्ट कौरवों ने तुमको
कायर समझा उतना ही।
सच पूछो, तो शर में ही
बसती है दीप्ति विनय की,
सन्धि-वचन संपूज्य उसी का जिसमें शक्ति विजय की।’
#IndianArmy#AlwaysReady

Indian Army Poster सेना ने कविता के साथ यह तस्वीर भी शेयर की (@adgpi)

Indian Air Force Aerial Strike LIVE Updates

उल्लेखनीय है कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद से ही पूरे देश में गुस्सा था। इसके बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत से कार्रवाई के लिए सबूत देने की बात कही थी। पाकिस्तान के इस रुख पर भारत ने जवाब देते हुए कहा था कि इस रवैये से कोई हैरानी वाली बात नहीं है।

पाकिस्तान में आतंकी कैंपों के पनपने की बात कई बार सामने आ चुकी है लेकिन इसके बावजूद सबूत मांगे जाते रहे हैं। भारत ने खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के आधार पर बालाकोट में पाकिस्तान की पनाह में पनप रहे आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया। इस कार्रवाई में करीब 200 से 300 आतंकियों के मारे जाने का दावा किया जा रहा है। हालांकि नुकसान के संबंध में कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App