ताज़ा खबर
 

बसपा नेताओं की गिरफ्तारी के लिए स्वाति बनाएंगी अखिलेश को ‘धर्म भाई’

’स्वाति ने कल देर शाम यहां एक समारोह में कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उनके पति को सिर्फ इसलिए गिरफ्तार कराया क्योंकि वह मायावती को बुआ कहते हैं। ’उन्होंने कहा कि सपा शासन में रिश्तेदार होने पर ही इंसाफ मिलता है इसलिए वह भी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को धर्म भाई बना कर उनको राखी बांधेंगी।

Author बलिया | September 23, 2016 03:27 am
भाजपा से निष्कासित दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह (फाइल फोटो)

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती पर कथित आपत्तिजनक बयान देने के मामले में भाजपा से निष्कासित दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति अपने परिवार के खिलाफ कथित तौर पर अश्लील नारेबाजी की अगुआई करने वाले बसपा महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी और अन्य नेताओं पर कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को ‘धर्म भाई’ बना कर उनको राखी बांधेंगी। स्वाति ने कल देर शाम यहां एक समारोह में कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उनके पति को सिर्फ इसलिए गिरफ्तार कराया क्योंकि वह मायावती को बुआ कहते हैं। बसपा नेताओं के खिलाफ उनके परिवार के लोगों के प्रति अश्लील नारेबाजी करने के मामले में मुकदमा दर्ज है, लेकिन मायावती से रिश्तेदारी के कारण मुख्यमंत्री बसपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं करवा रहे हैं।


उन्होंने कहा कि सपा शासन में रिश्तेदार होने पर ही इंसाफ मिलता है इसलिए वह भी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को धर्म भाई बना कर उनको राखी बांधेंगी।
भाजपा के तत्कालीन प्रांतीय उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह द्वारा हाल ही में बसपा अध्यक्ष के खिलाफ कथित आपत्तिजनक टिप्पणी किए जाने के विरोध में लखनऊ में हुए प्रदर्शन में बसपा नेताओं ने सिंह की पत्नी, बेटी और मां के खिलाफ कथित अश्लील नारेबाजी की थी। इस मामले में बसपा अध्यक्ष मायावती, महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी समेत अनेक नेताओं और कार्यकर्ताओं पर मुकदमा दर्ज किया गया था।

सिंह को मायावती पर अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में बिहार के बक्सर से गिरफ्तार किया गया था। हालांकि बसपा नेताओं पर कोई खास कार्रवाई नहीं हुई। स्वाति ने लोगों से आगामी विधानसभा चुनाव में सपा और बसपा को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।इस मौके पर भाजपा से निष्कासित नेता दयाशंकर सिंह ने एक बार फिर बसपा मुखिया मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि वह धन के लिए कुछ भी कर सकती हैं।उन्होंने बसपा मुखिया मायावती की तुलना रिक्शा चालक से करते हुए कहा है ‘मायावती से अच्छा तो रिक्शा वाला है। वह अगर सवारी से किराया तय कर लेता है तो वह फिर किसी दूसरी सवारी से सौदा नहीं करता। चाहे वह उसे अधिक धन ही क्यों न दे रहा हो।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App