ताज़ा खबर
 

महाराष्‍ट्र के CM देवेन्‍द्र फड़णवीस ने खोले राज- स्‍कूल में बैकबेंचर था, चाय बनाने में हूं उस्‍ताद

देवेन्‍द्र फड़णवीस ने एक्‍सप्रेस ग्रुप के मराठी अखबार लोकसत्‍ता के फाउंडेशन डे पर आयोजित कार्यक्रम में गाना भी गुनगुनाया।

Author मुंबई | January 20, 2016 14:19 pm
एक्‍सप्रेस ग्रुप के मराठी अखबार लोकसत्‍ता के फाउंडेशन डे पर आयोजित कार्यक्रम में एक्‍टर जितेन्‍द्र जोशी के साथ चर्चा करते देवेन्‍द्र फड़णवीस। (Express Photo)

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेन्‍द्र फड़णवीस का कहना है कि चाय बनाने के मामले में उन्‍हें कोई हरा नहीं सकता। एक्‍सप्रेस ग्रुप के मराठी अखबार लोकसत्‍ता के फाउंडेशन डे पर आयोजित कार्यक्रम में एक्‍टर जितेन्‍द्र जोशी के साथ बातचीत में फड़णवीस ने यह बात कही। इस मौके पर महाराष्‍ट्र सीएम ने अपने बचपन, कॉलेज के दिनों से लेकर सिनेमा और गानों को लेकर भी चर्चा की। उन्‍होंने कहा कि, ‘मैं निश्चिंतता के साथ कह सकता हूं कि मैं बेस्‍ट चाय बना सकता हूं। आपको बता दूं मैं न केवल खाने का शौकीन हूं बल्कि मैं खाना भी बनाता हूं। मेरे बनाए खाने को लजीज होने का तमगा भी मिल चुका है।’

फड़णवीस ने कहा कि स्‍कूल के दिनों में वे काफी शांत हुआ करते थे। उन्‍होंने कहा,’ मैं लंबा था जिसके कारण पिछली बैंच पर बैठा करता था। कॉलेज के दिनों तक मैं लास्‍ट बैंचर रहा। कॉलेज के दिनों में मैंने कुछ मजाक वगैरह किए। लेकिन कुल मिलाकर मेरी छवि अच्‍छे लड़के की रही।’ अपने राजनीतिक जीवन पर पिता गंगाधरराव फड़णवीस के प्रभाव को याद करते हुए उन्‍होंने कहा, ‘ मैं यह स्‍वीकार करता हूं कि उन्‍होंने अपने जीवन में जो कुछ हासिल किया मैं उसका 10 प्रतिशत भी नहीं कर पाया। मेरे पिता की कैंसर के चलते मौत हुई। यशवंत चव्‍हाण से लेकर शरद पवार तक उनसे मिलने आए थे।’

अपनी मां के बारे में फड़णवीस ने कहा कि, वह कभी राजनीति में नहीं रही। लेकिन राजनीतिक स्थिति को समझने की उनकी क्षमता हमेशा सही रही है। ड्राइविंग को लेकर महाराष्‍ट्र के सीएम ने कहा कि, ‘मैं पूरी रात गाड़ी चला सकता हूं। मैं नागपुर से मुंबई के बीच 13 से 16 घंटे तक का सफर खुद ड्राइव करके पूरा करता हूं।’ बाद में फड़णवीस ने अपना फेवरिट गाना ‘रिश्‍ता दिल से दिल के एतबार का, जिंदा है हमी से नाम प्‍यार का, के मर के भी किसी को याद आएंगे, कहेगा फूल हर कली से बार बार जीना इसी का नाम है’ गुनगुनाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App