ताज़ा खबर
 

अनाथालय की आड़ में गरीब बच्चों को बनाते थे मुस्लिम, आरोपी मोहम्मद उर्फ सत्यनारायण समेत 9 अरेस्ट

पुलिस ने मुख्य आरोपी मोहम्मद सिद्दीकी ऊर्फ सत्यनारायण के अलावा आठ अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और बाकी की तलाश की जा रही है।

Author November 20, 2017 3:10 PM
अनाथालय की आड़ में गरीब बच्चों को बनाते थे मुस्लिम (फोटो सोर्स- एएनआई ट्विटर)

हैदराबाद की राककोंडा पुलिस ने बच्चों को मुस्लिम बनाने के आरोप में रविवार के दिन 9 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी अनाथालय की आड़ में बच्चों को मुस्लिम बनाने का काम करते थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक ‘पीस ऑर्फन होम सोसाइटी’ नाम से अनाथालय चलाने वाले जिन 9 लोगों को गिरफ्तार किया गया है उन पर आरोप है कि वे पढ़ाई, खाना और रहने के लिए छत देने का लालच देकर तेलंगाना के गरीब परिवारों से बच्चों को लेकर आते थे और उन्हें मुस्लिम धर्म कुबूल करवाते थे।

पुलिस ने जिला बाल कल्याण अधिकारियों की शिकायत के बाद अनाथालय से 4-14 वर्ष की बीच के उम्र के 17 बच्चों को निकाला है। पुलिस ने मुख्य आरोपी मोहम्मद सिद्दीकी ऊर्फ सत्यनारायण के अलावा आठ अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और बाकी की तलाश की जा रही है। इंडिया टुडे के मुताबिक राककोंडा पुलिस आयुक्त महेश एम भागवत का कहना है, ‘ये लोग तेलंगाना के भद्रचलम, महबूबनगर, खम्मम और वारंगल जिलों के गरीब परिवारों के बच्चे लेकर आते थे और गैरकानूनी तरीकों से उन्हें मुस्लिम बनाने का काम करते थे।’

मुख्य आरोपी सिद्दीकी ने 2003-04 में इस्लाम कुबूल करने के बाद वारंगल जिले में पीस ऑर्फन सोसाइटी के नाम से अनाथालय शुरू किया था और पिछले साल उसने हैदराबाद में स्कूल-कम-हॉस्टल भी खोला था। पुलिस के मुताबिक सिद्दीकी के अलावा अन्य आठ आरोपियों की पहचान एम प्रवीण, सैयद अब्दुल्लाह, मोहम्मद शकील अहमद, मोहम्मद इस्माइल, बी सोमेश्वर राओ उर्फ अब्दुल्ला, एम सागर, मोहम्मद रब्बानी और मोहम्मद फ्याजुद्दीन के नाम से हुई है। आईपीसी की धारा 153-ए, 342, 363, जेजे अधिनियम के सेक्शन 2 और 4 और एससी-एसटी अत्याचार निरोधक अधिनियम- 1989 के तहत पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। अनाथालय के सभी बच्चों को बाल कल्याण विभाग को सौंप दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X