ताज़ा खबर
 

कोरोनाः अस्पताल वाले मांगते रहे कागज़, अस्पताल के बाहर ऑटो में ही मरीज ने तोड़ दिया दम

मां को लेकर अस्पताल पहुंचा तो वे कागज ही मांगते रहे। मरीज का दम उखड़ता रहा। ऑटो में ही महिला की मौत हो गई।

corona deathदिल्ली के गाजीपुर श्मशान की तस्वीर। क्रेडिट- पीटीआई

अस्पताल कागज़ मांगते रहे…मरीज का दम उखड़ता गया। आखिरकार मुकेश की मां मर गई। किरन 52 साल की थीं। उनके प्राणों ने अस्पताल के गेट पर तीन घंटे संघर्ष किया। उनके बेटे तीन घंटे तक अस्पताल के गेट पर गिड़गिड़ाते रहे।

28 साल का मुकुल व्यास अपनी मां को सुबह-सुबह ऑटो-रिक्शा में लिटा कर आइटीबीपी संचालित सरदार पटेल कोविड सेंटर लाया था। मदद के लिए भाई भी साथ था। मुकुल कहता है कि अस्पताल वाले बस औपचारिकताओं में लगे रहे। अंत में अस्पताल ने डिस्ट्रिक्ट सर्वेलंस ऑफिसर (डीएसओ) का लिखा कागज लाने को कहा। मुकुल कहता है कि मां की सांस टूटती गई और वे कागज मांगते रहे। उस वक्त कहां से लाता मैं कागज। तीन घंटे के संघर्ष के बाद उसकी मां की मौत उसी ऑटो में पड़े-पड़े हो गई, जिसमें वह लाई गई थी। उसके भाई ने छाती की मालिश कर के मां में दोबारा प्राण फूंकने की कोशिश की। नाकाम रहा। मुकुल आखिरी तक पूछता रहा कि भाई कागज जरूरी है या जान?

दिल्ली में सरकार के तमाम दावों के बाद हालात अच्छे नहीं हैं। बेड और खासतौर पर ऑक्सीजन वाले बेड और वेंटीलेटर सुविधा पाना आसान नहीं है। मुख्यमंत्री ने भरोसा दिया है कि राजधानी के विभिन्न अस्पतालों में और ज्यादा आइसीयू बेड का इंतजाम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में सभी आइसीयू बेड्स में मरीज हैं। लेकिन जीटीबी अस्पताल के पास मैदान और रामलीला मैदान में पांच-पांच सौ आइसीयू बेड तथा राधास्वामी कांप्लेक्स में दो सौ आइसीयू बेड दस मई तक पड़ जाएंगे।

इस वक्त दिल्ली की हालत बहुत खराब चल रही है। सोमवार को कोविड से 380 लोगों ने दम तोड़ा। संक्रमण की हालत यह है कि हर सौ की टेस्टिंग में 35 लोग कोरोना पॉजिटिव निकल रहे हैं।

श्मशान में करना पड़ रहा 20 घंटे का इंतजार
दिल्ली में कोरोना महामारी से मची तबाही का मंजर श्मशान घाटों पर लगातार देखने को मिल रहा है। स्थिति यह है कि लोगों को अपने प्रियजनों के शवों का दाह संस्कार करने के लिए 20-20 घंटे तक का इंतजार करना पड़ रहा है। यहां के एक श्मशान स्थल पर मंगलवार को 50 चिताएं जलीं। वहां कई शव पड़े हुए थे और कई अन्य वहां खड़े वाहनों में रखे हुए थे। कोरोना संक्रमण के कारण जान गंवाने लोगों के परिजन अंत्येष्ठि के लिए अपनी बारी के लिए प्रतीक्षारत थे।

Next Stories
1 कोरोनाः कानपुर के भैरव घाट पर भयावह हालात! श्मशान के बाहर लाशें छोड़ जा रहे लोग; आजिज कर्मी बोले- लोगों को जिम्मेदारी का अहसास नहीं है
2 HC जजों के होटल में 100 बेड रिजर्वः दिल्ली सरकार के आदेश पर भड़के डॉक्टर कौशल कांत, कहा- ये तो चमचागिरी है, गरीबों का कहां होगा इलाज?
3 कोरोना का कहर! 1 एंबुलेंस में 22 लाशें…महाराष्ट्र में यूं श्मशान तक पहुंचाए जा रहे शव
यह पढ़ा क्या?
X