ताज़ा खबर
 

यूपी: सुप्रीम कोर्ट में केस होने के बावजूद दर्जन भर लोगों को रिकवरी नोटिस- एक हफ्ते में भरो जुर्माना, वरना भेजेंगे जेल

सुप्रीम कोर्ट में केस होने के बावजूद प्रशासन ने एक दर्जन से अधिक लोगों को रिकवरी नोटिस जारी किया है। इस नोटिस में कहा गया है कि उन्हें अब एक सप्ताह के भीतर 10 प्रतिशत अतिरिक्त रूपाय जमा करने होंगे या फिर जेल की सजा भुगतनी होगी।

Author , Translated By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: March 18, 2020 8:58 AM
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा मामले में कार्रवाई जारी है। (File photo)

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा मामले में कार्रवाई जारी है। सुप्रीम कोर्ट में केस होने के बावजूद प्रशासन ने एक दर्जन से अधिक लोगों को रिकवरी नोटिस जारी किया है। इस नोटिस में कहा गया है कि उन्हें अब एक सप्ताह के भीतर 10 प्रतिशत अतिरिक्त रूपाय जमा करने होंगे या फिर जेल की सजा भुगतनी होगी।

हसनगंज पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र में आने वाले 13 लोगों को लखनऊ प्रशासन ने मंगलवार “वसूली प्रमाणपत्र” और “डिमांड नोटिस” जारी किए है। लखनऊ के चार पुलिस स्टेशनों में 57 लोगों शामिल हैं, जिन्होंने 1.55 करोड़ रुपये की वसूली के लिए नोटिस जारी किया गया था। इन सभी पर 19 दिसंबर को विरोध प्रदर्शन के दौरान सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने का आरोप है। सभी को 30 दिनों के भीतर रूपाय जमा करने को कहा गया था।

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इस मामले में सरकार को 17 मार्च तक पोस्टर हटाकर अनुपालन रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया था। प्रदेश सरकार ने हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। मामला अब सुप्रीम कोर्ट में है।

जिन 13 लोगों को मंगलवार को रिकवरी सर्टिफिकेट और डिमांड नोटिस मिला, उन्हें 21.67 लाख रुपये देने को कहा गया है। 13 लोगों जिन्हें नोटिस दिया गया है उनके नाम – ओसामा सिद्दीकी, मोहम्मद हाशिम, धर्मवीर सिंह, मोहम्मद कलीम, मुकतार अहमद, मोहम्मद ज़ाकिर, मोहम्मद सलमान, मुबिन वसीम, मोहम्मद शफ़ीउद्दीन, महेनूर चौधरी और हाफिज़ उर रहमान का नाम शामिल है।

एडीएम (ट्रांस गोमती) विश्व भूषण मिश्रा ने कहा, ”डिमांड नोटिस में मूल राशि से 10 फीसदी अतिरिक्त जमा करने का प्रावधान है। 13 लोगों को एक सप्ताह का समय दिया गया है, जिसमें विफल रहने पर उन्हें नागरिक कारावास और संपत्ति की कुर्की का सामना करना पड़ेगा।”

इस बीच, सोमवार को 21 दिसंबर के विरोध के दौरान हिंसा के लिए कानपुर में नोटिस पाने वाले 21 लोगों में से छह ने मसौदे के जरिए 80,000 रुपये जमा किए हैं। जिला प्रशासन ने 6 मार्च को एक आदेश जारी किया था जिसमें 21 को निर्देश दिया था कि एक सप्ताह के भीतर सभी को हर्जाने के रूप में 2.83 लाख रुपये जमा करने होंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 COVID-19: दार्जिलिंग के 2 स्टूडेंट्स पर ‘नस्लभेदी टिप्पणियां’, चिढ़ाने लगे- देखो, Coronavirus आ गया
2 गुजरात कांग्रेस में बगावत रोकेंगी सोनिया गांधी? विधायकों ने कहा- पार्टी अध्यक्ष तय करें राज्यसभा उम्मीदवारों के नाम
3 MP सियासी संकटः शिवराज सिंह चौहान की खुली चेतावनी- ‘जी हुजूरी’ करने वाले एक-एक अधिकारी की बना रहा हूं लिस्ट, लेंगे हिसाब