scorecardresearch

Delhi MCD Elections 2022: खास बन गया है इस बार का दिल्ली नगर निगम चुनाव, ये हैं बड़े कारण

MCD Polls 2022, Delhi Nagar Nigam Election: संयोग से दिल्ली नगर निगम के चुनाव तभी हो रहे हैं जब गुजरात विधानसभा के चुनाव हो रहे हैं।

Delhi MCD Elections 2022: खास बन गया है इस बार का दिल्ली नगर निगम चुनाव, ये हैं बड़े कारण
सांकेतिक फोटो।

मनोज कुमार मिश्र

Delhi MCD Election 2022: दिल्ली नगर निगम की 250 सीटों के लिए चार दिसंबर को मतदान होगा और नतीजे सात दिसंबर को आएंगे। गुजरात में एक और पांच दिसंबर को चुनाव होंगे। नतीजे आठ दिसंबर को आएंगे। दिल्ली नगर निगम चुनाव में इस बार काफी कुछ बदला है। सीधी लड़ाई लगातार 15 साल निगम की सत्ता में रही भाजपा (BJP) और लगातार दो विधानसभा चुनाव प्रचंड बहुमत से जीतने वाली आम आदमी पार्टी (AAP) के बीच है।

सुर्खियों में AAP पर टिकट के लिए रिश्वत ( Cash for Ticket) का आरोप

आप के नेताओं पर तरह-तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं। पैसे लेकर टिकट बांटने से लेकर अलग-अलग काम के बहाने पैसा लेने के आरोप तक लग रहे हैं। एक मंत्री कई महीने से जेल में हैं। आप इसे भाजपा की साजिश और केन्द्र सरकार द्वारा केन्द्रीय जांच एजंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगा रही है। चुनाव प्रचार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi) शामिल नहीं हुए हैं लेकिन आप के नेता इस चुनाव को प्रधानमंत्री बनाम दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बनाने में लगे हैं।

दिल्ली की लंबे समय तक मुख्यमंत्री रही शीला दीक्षित के हर संभव प्रयास के बाद ही दिल्ली के निगम दिल्ली सरकार के अधीन स्वशासी बनाए गए थे। अब निगम के कामकाज में दिल्ली सरकार का कोई हस्तक्षेप नहीं होने वाला है। विधेयक में निगम के अधिकार बढ़ाने या उसके वित्तीय संसाधन बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं है। दिल्ली सरकार से निगमों के विवाद का असली कारण तो पैसे की देनदारी ही रही है।

नगर निगम (Delhi MCD) के एकीकरण के मुद्दे भी छाए

पांच राज्यों के विधान सभा चुनावों के नतीजों के घोषित होने के ठीक एक दिन पहले नौ मार्च को दिल्ली के नगर निगमों के चुनाव टालने की घोषणा कर दी गई। चुनाव के लिए सीटों के परिसीमन आदि काम पूरा करने के बाद दिल्ली के मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि अभी ही केन्द्र सरकार से चुनाव की घोषणा न करने का संदेश मिला है। शायद केन्द्र सरकार तीन नगर निगमों को एक करना चाहती है। यही हुआ भी वैसे दूसरे ही दिन चुनाव नतीजे आते ही दिल्ली सरकार में पिछले सात साल से शासन कर रही आम आदमी पार्टी (आप) के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि केन्द्र की भाजपा सरकार हार के डर से निगम चुनाव को टाल रही है।

उपराज्यपाल की भूमिका (LG) पर आप हमलावर

केन्द्र और दिल्ली में पहले भी अलग-अलग दल की सरकारें रही है और उसी तरह पहले भी उपराज्यपाल केन्द्र सरकार के हिसाब से बनते रहे हैं। टकराव भी कई बार हुआ लेकिन वह ज्यादा लंबा नहीं चला। न ही टकराव स्तरहीन हुआ। विधानसभा की बैठक उपराज्यपाल के नाम पर उनकी ही अनुमति से बुलाई जाती है। उसी विधानसभा में सत्ता में बैठी आम आदमी पार्टी (आप) उपराज्यपाल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर उन्हें हटाने के लिए धरना दे रही है।

आप (AAP) ने लगाया केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप

आबकारी नीति में भ्रष्टाचार के आरोप की जांच शुरू होने के बाद उपराज्यपाल पर तरह-तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं। संभव है कि भाजपा को दिल्ली के बाद पंजाब में आप के चुनाव जीतने के बाद आने वाले दिनों में होने वाले गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में आप के ताकतवर बनने से चिंता हुई हो। आप का का आरोप है कि आप को जीतने से रोकने के लिए भाजपा की केन्द्र सरकार केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के माध्यम से आप को परेशान कर रही है।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 23-11-2022 at 01:30:00 am
अपडेट