ताज़ा खबर
 

लोगों का इलाज करने को महिला स्वास्थ्यकर्मी ने पैदल पार की नदी, बोली- सेवा सबसे बड़ा काम

छत्तीसगढ़ की एक महिला स्वास्थ्य कर्मचारी ने चारों ओर से पानी से घिरे एक दुर्गम गांव में पैदल नदी पार कर लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई। उसके इस काम की लोगों ने सोशल मीडिया पर जमकर सराहना की।

Author रायपुर | Updated: September 17, 2019 11:08 PM
नदी पार करती महिला स्वास्थ्य कर्मचारी (फोटो सोर्स – ANI)

छत्तीसगढ़ के बलरामपुर की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसमें एक महिला स्वास्थ्यकर्मी ग्रामीणों को चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने के लिए पैदल ही नदी पार कर गई। सोशल मीडिया पर लोगों ने महिला के जज्बे और सेवा भावना की तारीफ की। बता दें कि जिस वक्त महिला कर्मचारी ने नदी पार की, उस वक्त पानी काफी ज्यादा था। ऐसे में नदी पार करना खतरनाक हो सकता था।

अलखडीहा में तैनात हैं पुष्पलता: अपनी जान खतरे मेंं डालकर नदी पार करने वाली महिला स्वास्थ्यकर्मी की पहचान पुष्पलता के रूप में हुई। वह राजपुर विकासखण्ड के अलखडीहा उपस्वास्थ्य केंद्र में तैनात हैं। उपस्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने बताया कि विकास खंड में महज 2-3 गांव में ही 1500 लोग रहते हैं। हालांकि, ये सभी गांव चारों तरफ से नदियों से घिरे हुए हैं, जिसके चलते ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधा नहीं मिल पाती हैं।

National Hindi News 17 September 2019 LIVE Updates: 69 के हुए PM मोदी, मुलाकात के लिए दिल्ली आएंगी ममता बनर्जी

पहले डर लगा, लेकिन एक बार बढ़ी तो पार कर ली नदी : महिला स्वास्थ्य कर्मचारी का कहना है कि जब उसने गांव जाने का निर्णय लिया तो थोड़ा डर लगा। गांव चारों ओर से पानी से घिरा हुआ है, लेकिन बाद में हिम्मत के साथ आगे बढ़ी और नदी पार कर गांव में पहुंच गई। वहां पर उसने लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई और जरूरी सलाह दी। उसने कहा कि मेरे लिए लोगों की सेवा ही सबसे बड़ा काम है। लोगों ने इस पर खुशी जताई।

दुर्गम स्थानों पर नहीं हैं स्वास्थ्य केंद्र : कई लोगों ने महिला स्वास्थ्य कर्मचारी की ग्रामीणों के प्रति इस सेवा भाव को सोशल मीडिया पर भी डाला। लोगों का कहना है कि ऐसी महिलाएं सचमुच सम्मान की पात्र हैं। अपने कर्तव्य के प्रति इतना जिम्मेदार होना बड़ी बात है। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के कई इलाके बेहद दुर्गम और सुविधाओं से वंचित हैं। वहां पर सरकारी अस्पताल और हेल्थ सेंटर भी बहुत कम हैं। ऐसे में लोगों को दूरदराज से आने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों का ही सहारा रहता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 चंडीगढ़: नगर आयुक्त ने नई सड़कें बनाने से किया इनकार, कहा- हमारे पास पैसा ही नहीं
2 उत्तराखंड: बाढ़ से महिला की मौत, श्मशान पहुंचाने के लिए कंधे पर शव रख 14 किमी दूर गए सेना के जवान
3 राजस्थान: चंबल में बह रही आफत की नदी, चौतरफा पानी से घिरे गांव, हजारों जान मुश्किल में