ताज़ा खबर
 

शिमला नगर निकाय चुनाव परिणाम 2017: हिमाचल में भी मोदी मोदी लहर, 34 में 17 सीटों पर बीजेपी की बड़ी जीत, 12 पर कांग्रेस जीती

शिमला नगर निकाय चुनाव परिणाम 2017: शुक्रवार को 58 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर कुल 126 उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद कर दी थी।

शुक्रवार को 58 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल करते हुए कुल 126 उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद कर दी थी।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बीते तीन दशक में पहली बार शिमला नगर निगम में सर्वाधिक सीटें जीतकर इतिहास रच दिया, लेकिन वह 18 सदस्यों के सामान्य बहुमत के आंकड़े को हासिल करने में नाकाम रही। पार्टी ने 17 सीटों पर जीत दर्ज की। वहीं, निगम पर 26 वर्षो तक काबिज रहने वाली कांग्रेस के 12 उम्मीदवार निर्वाचित हुए हैं। साथ ही चार निर्दलीय तथा मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) का एक उम्मीदवार भी चुनाव जीतने में कामयाब रहा। तीन निर्दलीय पार्षदों शारदा चौहान, कुसुम लता तथा संजय परमार ने कांग्रेस को अपना समर्थन देने का ऐलान किया। जिसका अर्थ है कि कांग्रेस के पास 15 पार्षदों का समर्थन है, लेकिन भाजपा के 17 पार्षदों की तुलना में आंकड़े अभी भी उसके पक्ष में नहीं हैं। भाजपा के एक नेता ने कहा, “हम एक निर्दलीय पार्षद के समर्थन से नगर निगम पर काबिज होने जा रहे हैं।” चौथे निर्दलीय पार्षद भाजपा के बागी हैं और उनके पार्टी का समर्थन करने की संभावना है, जिससे बहुमत का आंकड़ा पूरा हो जाएगा। मतदान शुक्रवार को हुआ था, जिसमें 91,000 से भी अधिक योग्य मतदाताओं में से करीब 58 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था।

चुनाव में निर्वासित तिब्बतियों ने भी अपने मताधिकार का प्रयोग किया। चेन्नई तथा कोलकाता के बाद शिमला सबसे पुराना नगर निगम है। चुनाव में मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच था। हालांकि उम्मीदवारों ने पार्टी के चुनाव चिन्हों पर चुनाव नहीं लड़ा। भाजपा ने 34 उम्मीदवारों, कांग्रेस ने 27 और मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने 22 उम्मीदवारों का समर्थन किया था। शिमला नगर निगम पर 26 वर्षो से कांग्रेस काबिज रही है।

साल 2012 के चुनावों में सीपीएम ने सभी दलों को चकित कर दिया था जब शहर के मेयर और डिप्टी मेयर के चुनावों में जीत दर्ज की थी। कार्यकाल खत्म हो रही 15 सदस्यों वाली काउंसिल में फिलहाल बीजेपी के 12 पार्षद हैं जबकि कांग्रेस के 10 पार्षद हैं। शिमला नगर निगम पर कांग्रेस ने साल 2012 से पहले 26 सालों तक शासन किया है। आज की मतगणना में भी सबसे पहली जीत सीपीएम को ही मिली है।

कौन-कौन कहां-कहां से जीता:

वार्ड नंबर 2 रुलदू भट्टा से बीजेपी समर्थित उम्मीदवार संजीव ठाकुर ने जीत दर्ज की है।

वार्ड नंबर 3 कैथू से भी बीजेपी समर्थित उम्मीदवार सुनील धर ने जीत दर्ज की है।

वार्ड नंबर 4 अनाडेल से भी बीजेपी समर्थित उम्मीदवार कुसुम सदरेट ने जीत दर्ज की है।

वार्ड नंबर 5 समरहिल से सीपीआईएम समर्थित उम्मीदवार शैली शर्मा ने जीत दर्ज की है।

वार्ड नंबर 6 टुटू से बीजेपी समर्थित उम्मीदवार विवेक शर्मा 97 वोटों से जीत गए हैं।

वार्ड नंबर 8 बालूगंज से किरण बाबा विजयी, भाजपा समर्थित उम्मीदवार हैं किरण बाबा।

वार्ड नंबर 9 कच्चीघाटी से निर्दलीय प्रत्याशी संजय परमार 272 वोटों से विजयी।

वार्ड नंबर 17 बैनमोर से बीजेपी समर्थित उम्मीदवार किमी सूद विजयी।

वार्ड नंबर 18 इंजनघर से बीजेपी समर्थित उम्मीदवार आरती चौहान विजयी।

वार्ड नंबर 19 से बीजेपी उम्मीदवार सत्या कौंडल विजयी।

वार्ड नंबर 20 से बीजेपी समर्थित कमलेश मेहता की जीत।

वार्ड नंबर 21 से बीजेपी समर्थित शैलेंद्र चौहान ने जीत की दर्ज।

वार्ड नंबर 23 से रीता ठाकुर जीत गई हैं

वार्ड नंबर 24 शांगटी से कांग्रेस की मीरा शर्मा की जीत ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App