ताज़ा खबर
 

Himachal Pradesh Weather Updates: हिमाचल प्रदेश में बाढ़ के हालात, उफान मार रहीं नदियां, स्कूल-कॉलेज बंद

Himachal Pradesh Shimla Weather Forecast Today News Updates, Himachal Pradesh Shimla Rains News: कुल्लू-मनाली-रोहतांग-लेह, हिंदुस्तान-तिब्बत मार्ग, शिमला-रोहड़ू, नाहन-शिमला, चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे स्वारघाट के समीप और चंबा-पठानकोट एनएच तीन जगहों और पठानकोट-मंडी एनएच पर भूस्खलन की वजह से ट्रेफिक बंद कर दिया गया है।

हिमाचल के नौ जिलों कुल्लू, मंडी, चंबा, सिरमौर, कांगड़ा, हमीरपुर, लाहौल, बिलासपुर और किन्नौर के स्कूलों में 24 सितंबर की छुट्टी घोषित कर दी।

Himachal Pradesh Shimla Weather Forecast News Updates: हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश के कारण अचानक बाढ़ आने से पानी में बह जाने के कारण कांगड़ा और कुल्लू में क्रमश: एक पुरुष और एक लड़की की मौत हुई। अधिकारियों ने कुल्लू जिले के लिए ‘हाई अलर्ट’ जारी किया है। जिला प्रशासन ने बताया कि मूसलाधार बारिश के बाद नदियों में जल स्तर बढ़ने पर कांगड़ा जिले में उफान पर नजर आ रही नाहड़ खाड़ (छोटी नदी) में एक व्यक्ति के बह जाने से उसकी मौत की आशंका जताई जा रही है। प्रशासन के मुताबिक, जवाली तहसील के लस्कवारा गांव के रहने वाले तिलक राज उस वक्त पानी में बह गए जब सोमवार की सुबह वह नाहड़ खाड़ा को पार कर रहे थे। तिलक का शव बरामद करने की कोशिशें जारी हैं।

राज्य के वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि एक अन्य घटना में कुल्लू के बजौरा में 14 साल की एक लड़की पानी में बह गई जिससे उसकी मौत हो गई। मंत्री ने कुल्लू जिले के कई प्रभावित इलाकों का दौरा किया और मृतका के परिजन से मिलकर शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि व्यास में अचानक आई बाढ़ के कारण कई घर भी बह गए। व्यास नदी खतरनाक स्तर पर बह रही है। उन्होंने कहा कि लोगों को लकड़ियां आदि इकट्ठा करने के लिए नदियों या नालों के पास नहीं जाना चाहिए। रविवार को कुल्लू जिले के डोबी में अचानक आई बाढ़ के कारण फंसे 19 लोगों को सुरक्षित निकालने को लेकर ठाकुर ने सोमवार को भारतीय वायुसेना के स्क्वाड्रन लीडर विपुल गोयल और उनकी टीम को सम्मानित भी किया।उपायुक्त यूनुस ने कुल्लू जिले के लिए ‘हाई अलर्ट’ जारी किया है।

इस बीच, राज्य के ज्यादातर जिलों में एहतियाती उपाय के तौर पर सोमवार को स्कूल बंद कर दिए गए थे। अधिकारियों ने बताया कि कांगड़ा, चंबा, कुल्लू और मंडी जिलों सहित अन्य स्थानों पर निचले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। उनसे सतर्क रहने को भी कहा जा रहा है, क्योंकि नदियों और नालों में जल स्तर बढ़ रहा है।पुलिस अधीक्षक मोनिका भुटुनगुरू ने बताया कि चंबा में रावी नदी अब भी खतरनाक स्तर पर है और प्रशासन रविवार से ही लोगों को निचले इलाकों से निकाल रहा है। कांगड़ा के उपायुक्त संदीप कुमार ने अधिकारियों और निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को अलर्ट कर दिया है कि पांडो जलाशय से पानी छोड़ा जाएगा।  बाढ़ की चेतावनी जारी करते हुए भाखड़ा व्यास प्रबंधन बोर्ड ने कहा कि पोंग बांध से अत्यधिक पानी छोड़ा जाएगा, क्योंकि भारी बारिश के कारण जलाशय के जलग्रहण क्षेत्रों में पानी लबालब भर गया है।

मौसम विभाग ने मध्यम ऊंचाई की पहाड़ी वाले इलाकों और मैदानी इलाकों में भारी बारिश का पूर्वानुमान किया है जबकि ऊपरी पवर्तीय क्षेत्रों में बर्फबारी का पूर्वानुमान किया है। शिमला के मौसम केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि हिमाचल प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में मध्यम से लेकर भारी बारिश हो रही है। सुबह 8:30 बजे दर्ज किए गए आंकड़ों के मुताबिक, चंबा जिले के डलहौजी में पिछले 24 घंटों में 170 मिमी, मनाली में 121 मिमी, कांगड़ा में 120.08 मिमी, पालमपुर में 108 मिमी, धर्मशाला में 62.6 मिमी और उना में 62 मिमी बारिश हुई है। राज्य की राजधानी शिमला में 23.1 मिमी बारिश हुई। कुल्लू जिले के लिए ‘‘हाई अलर्ट’’ जारी करते हुए उपायुक्त युनूस ने लोगों को चेतावनी दी कि बाढ़ जैसी स्थिति के मद्देनजर वे नदियों और नालों के पास न जाएं।

मौसम केंद्र के मुताबिक, ऊंचाई वाले इलाकों में बड़े पैमाने पर बारिश और बर्फबारी के कारण तापमान में कमी आई है। लाहौल और स्पीति जिले के केलोंग में तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया है। केंद्र के मुताबिक, उना में तापमान सबसे अधिक 27.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम केंद्र ने पूर्वानुमान जाहिर किया है कि 25 सितंबर को राज्य के ऊंचाई वाले इलाकों में मध्यम एवं कम ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों और कुछ एक जगहों पर हल्की से मध्यम स्तर की बारिश होगी। इसके बाद मौसम लगभग शुष्क रहेगा।

 

Live Blog

Himachal Pradesh Shimla Weather Forecast Today News Updates

17:44 (IST) 24 Sep 2018
बिजली प्रोजेक्ट तबाह, 35 परिवार सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचे

चंबा जिले में राजेरा केरन बिजली प्रोजेक्ट तबाह हो गया है। एक कार भी मलबे में दब गई है। कांगड़ा जिले के गांव मैरा बटराह में चक्की खड्ड में पानी आने से लोगो की धान की फसल बर्बाद हो गई है। लियारा-डाडासीबा संपर्क मार्ग बंद हो गया है। कांगड़ा जिले की मुलथान तहसील के बाजार के 35 परिवारों ने ऊहल नदी में उफान को देखते घर छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं।

17:35 (IST) 24 Sep 2018
बह गया पेट्रोल पंप

कुल्लू जिले के मनाली से पांच किमी आगे बाहंग में एचपी का पेट्रोल पंप बह गया है। चार टैंक भी ध्वस्त होने की सूचना है। ऊना जिले के गगरेट में गोल्डन स्टार जूस फैक्टरी ध्वस्त हो गई। इस हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई है।

17:21 (IST) 24 Sep 2018
इंटरनेट और टेलिफोन सर्विस ठप

सभी दूरसंचार के साधन इंटरनेट सेवाएं भी ठप हो गई हैं। वहीं प्रदेश के सिरमौर जिले में 3.7 तीव्रता का भूंकप भी दर्ज किया गया है। लोगों भागकर घरों से निकले हालांकि जानमाल का कोई नुकसान होने की सूचना नहीं है।

17:11 (IST) 24 Sep 2018
IIT मंडी के पांच मेंबर लापता, स्कूल कॉलेज 26 को भी बंद

कुल्लू जिले के मणिकरण में दो स्कूटी सवार यवुक पार्वती नदी में बह गए हैं। मंडी जिले के बजौरा पुल के पास झिड़ी नामक स्थान पर 13 साल की लड़की बह गई है। आईआईटी मंडी के पांच स्टाफ मेंबर लापता हो गए हैं। बताया जा रहा है कि पांचों निजी टूर पर लाहौल में चंद्रताल झील घूमने गए थे। कुल्लू और लाहौल-स्पीत के सभी सरकारी व निजी स्कूलों और कॉलेजों में मंगलवार को भी छुट्टी रहेगी। प्रशासन ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं।

16:42 (IST) 24 Sep 2018
निचले इलाकों वाले हाई अलर्ट पर

पुलिस अधीक्षक मोनिका भुटुनगुरू ने बताया कि चंबा में रावी नदी अब भी खतरनाक स्तर पर है और प्रशासन रविवार से ही लोगों को निचले इलाकों से निकाल रहा है। कांगड़ा के उपायुक्त संदीप कुमार ने अधिकारियों और निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को अलर्ट कर दिया है कि पांडो जलाशय से पानी छोड़ा जाएगा।

16:33 (IST) 24 Sep 2018
यहां के लोगों को पहुंचाया जा रहा सुरक्षित जगह

अधिकारियों के मुताबिक कांगड़ा, चंबा, कुल्लू और मंडी जिलों सहित अन्य स्थानों पर निचले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। उनसे सतर्क रहने को भी कहा जा रहा है, क्योंकि नदियों और नालों में जल स्तर बढ़ रहा है।

16:20 (IST) 24 Sep 2018
Himachal Pradesh Shimla Weather Forecast: 2 की मौत

हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश के कारण अचानक बाढ़ आने से पानी में बह जाने के कारण कांगड़ा और कुल्लू में क्रमश: एक पुरुष और एक लड़की की मौत हुई। अधिकारियों ने कुल्लू जिले के लिए ‘हाई अलर्ट’ जारी किया है। जिला प्रशासन ने बताया कि मूसलाधार बारिश के बाद नदियों में जल स्तर बढ़ने पर कांगड़ा जिले में उफान पर नजर आ रही नाहड़ खाड़ (छोटी नदी) में एक व्यक्ति के बह जाने से उसकी मौत की आशंका जताई जा रही है। प्रशासन के मुताबिक, जवाली तहसील के लस्कवारा गांव के रहने वाले तिलक राज उस वक्त पानी में बह गए जब सोमवार की सुबह वह नाहड़ खाड़ा को पार कर रहे थे। तिलक का शव बरामद करने की कोशिशें जारी हैं। राज्य के वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि एक अन्य घटना में कुल्लू के बजौरा में 14 साल की एक लड़की पानी में बह गई जिससे उसकी मौत हो गई।

15:56 (IST) 24 Sep 2018
Himachal Pradesh Shimla Weather: ठंड बढ़ी

शिमला में बारिश की वजह से ठंड बढ़ गई है। यहां पारा लुढ़का है। शिमला के रामपुर, नारकंडा, कुमारसैन, सराहन ननखंडी में बीते तीन दिनों से लगातार बारिश से जनजीवन सामान्य नहीं है। कहीं से किसी नुकसान की खबर नहीं है। एहतियातन के तौर पर सभी स्कूल कालेज बंद हैं।

15:47 (IST) 24 Sep 2018
पहले ही जताई गई थी भारी बारिश की संभावना

विभाग ने एक बयान में कहा, "कुछ क्षेत्रों में सोमवार तक भारी बारिश हो सकती है।" विभाग ने कहा कि 24 सितम्बर को मध्य और निचले पहाड़ी इलाके में कुछ जगहों पर तेज और कुछ जगहों पर बहुत तेज बारिश हो सकती है। मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ 25 सितम्बर तक सक्रिय रह सकता है।

15:38 (IST) 24 Sep 2018
कई हाइवे बंद, सभी नदियां उफान पर

लाहौल घाटी के कोकसार में फंसे 120 लोगों को बचा लिया गया है। इसी तरह कुल्लू जिले के मारही से 23 लोगों को और रोहतांग इलाके से 23 लोगों को बचा लिया गया है। अधिकारियों ने कहा कि दक्षिण पश्चिम मॉनसून राज्य में आक्रामक बना हुआ है और अधिकांश इलाकों में भारी से अत्यंत भारी बारिश हो रही है। इसके कारण कुछ इलाकों में भूस्खलन हुआ है और राजमार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। सभी प्रमुख नदियां और उनकी सहायक नदियां उफान पर हैं। 

15:26 (IST) 24 Sep 2018
हिमाचल में वायुसेना ने 19 लोगों को बचाया

भारतीय वायुसेना के एक हेलीकॉप्टर ने शनिवार को हिमाचल प्रदेश में लगातार जारी भारी बारिश के कारण आई बाढ़ में फंसे 19 लोगों को बचा लिया। सरकार के एक प्रवक्ता ने आईएएनएस से कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के निर्देश पर वायुसेना के हेलीकॉप्टर से कुल्लू जिले के डोबी में फंसे लोगों को बचाने का अनुरोध किया गया। सभी को सुरक्षित बचा लिया गया। प्रवक्ता ने कहा कि भारी बारिश के कारण खासतौर से कुल्लू, चम्बा, किन्नौर और लाहौल-स्पीति जिलों में पैदा हुए हालात का जायजा लेने के लिए बुलाई गई एक आपात बैठक में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जान-माल का नुकसान रोकने के लिए सभी एहतियाती कदम उठाए जाएं। ठाकुर ने कहा कि लोक निर्माण विभाग सड़कों पर भूस्खलन या मलबे को जल्द से जल्द साफ करे, और चामरा व पंडोह बांधों में बढ़ते जलस्तर पर नजर रखी जाए और प्रशासन को पूर्व चेतावनी मुहैया कराई जाए।

13:48 (IST) 24 Sep 2018
चंडीगढ़ मनाली हाइवे भी कई जगह बंद

सबसे ज्यादा तबाही कुल्लू जिले में हुई है। यहां पर बस और ट्रक के अलावा कई वाहन बह गए हैं। आनी क्षेत्र में भूस्खलन के चलते आनी-शवाड-कराणा हाइवे बंद है। चंडीगढ़-मनाली हाईवे मंडी से लेकर मनाली तक कई जगह से बंद है।

13:19 (IST) 24 Sep 2018
किसे कितना हुआ नुकसान

भारी बारिश की वजह से अकेले लोक निर्माण विभाग को 745 करोड, आईपीएच को 328 करोड, ऊर्जा क्षेत्र को 23 करोड़, पशुपालन विभाग को 5 लाख, शिक्षा विभाग को 5 करोड़ 5 लाख, मत्स्य पालन को 62 लाख और कृषि विभाग को 79 करोड़ का नुकसान हुआ है।

13:00 (IST) 24 Sep 2018
Himachal Pradesh, अब तक 1231 करोड़ का नुकसान

लाहौल जिले के कोकसर में डेढ़ फुट बर्फ पड़ी है। इसके अलावा, दारजा में ढ़ाई फुट, लोसर में आधा फुट, केलांग में दो फुट, उदयपुर में 5 से 6 इंच बर्फबारी दर्ज की गई है। स्पीति में काजा-रिकांगपियो मार्ग को छोड़कर बाकी सभी मार्ग बाधित हैं। हिमाचल में 1 जुलाई से 23 सितंबर तक 1231 करोड़ का नुकसान हो चुका है।

12:39 (IST) 24 Sep 2018
शीतला ब्रिज में भी आईं दरारें

चंबा जिला को जोड़ने वाले 100 साल पुराने शीतला ब्रिज में भी दरारें आ गई हैं। यहां बालू ब्रिज को आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया है। वहीं, रोहतांग पास में बर्फबारी के कारण फंसे 28 लोगों को रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित निकाल लिया।

12:33 (IST) 24 Sep 2018
इतने लोगों की बचाई जान

हिमाचल प्रदेश में कुल्लू जिले के दोबी में बाढ़ और भारी बारिश की वजह से फंसे 19 लोगों को भारतीय वायु सेना के एक हेलीकॉप्टर से बचाया गया। कोकसर में फंसे 120 लोगों को बचा लिया। मरी और रोहतांग से 23-23 लोगों को बचाया गया है।